भूमिपूजन के लिए अयोध्या जाएंगे उद्धव ठाकरे

मुंबई
शिवसेना के सांसद संजय राउत ने मंगलवार को कहा कि पक्ष प्रमुख एवं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे राम मंदिर भूमि पूजन के लिए निश्चित तौर पर अयोध्या जाएंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या ठाकरे को भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कोई आमंत्रण मिला है, राउत ने कहा कि यह आएगा। पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शामिल होने की संभावना है। राउत ने एक टीवी चैनल से कहा कि मुख्यमंत्री ठाकरे भूमि पूजन समारोह में निश्चित तौर पर शामिल होंगे, क्योंकि शिवसेना इस विषय से भावनात्मक, धार्मिक और राष्ट्रीय रूप से जुड़ी है। उन्होंने कहा कि जैसा कि मैंने कहा था कि शिवसेना ने बड़ा योगदान दिया है और राम मंदिर निर्माण के लिए (शिवसैनिकों ने) अपना रक्त बहाया तथा बलिदान दिया। राउत ने दोहराया कि ठाकरे अयोध्या जाते रहते हैं और उन्होंने ऐसा महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनने से पहले तथा बाद में भी किया है। उन्होंने यह भी कहा कि यदि कोविड-19 संकट न होता तो लाखों राम भक्त भूमि पूजन समारोह में शामिल होते। राज्यसभा सदस्य ने सोमवार को दावा किया था कि उनकी पार्टी ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया और मंदिर निर्माण में आ रही बाधाओं को दूर किया। पार्टी ने यह सब हिंदुत्व के लिए किया, न कि राजनीति के लिए। राउत ने कहा कि यह देखना होगा कि अगले महीने अयोध्या में भूमि पूजन समारोह में कितने लोगों को आमंत्रित किया जाएगा और (कोविड-19 के मद्देनजर) समारोह में भौतिक दूरी से संबंधित क्या कदम होंगे।

सीएम को आमंत्रित करने का अनुरोध
इधर ठाणे से शिवसेना के विधायक प्रताप सरनाईक ने राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र के मुख्य ट्रस्टी से अनुरोध किया है कि वे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास समारोह में आमंत्रित करें। सरनाईक ने मुख्य ट्रस्टी को संबोधित एक पत्र के माध्यम से कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण की मांग को उठाने में सेना और ठाकरे दोनों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। वहीं, शिवसेना सांसद अरविंद सावंत का कहना है कि मुख्यमंत्री खुद ही तय करेंगे कि वे अयोध्या जाएंगे या नहीं।
धार्मिक गतिविधियों को बढ़ावा देने से बचे: मेमन
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के पूर्व सांसद मजीद मेमन ने मंगलवार को कहा कि धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र के मुखिया को किसी खास धार्म की गतिविधियों को बढ़ावा देने से बचना चाहिए। मेमन ने यह टिप्पणी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में आमंत्रित किए जाने के संदर्भ में की है। मेमन ने ट्वीट किया कि राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए आमंत्रित लोगों में उद्धव ठाकरे भी हैं। वह कोविड-19 की वजह से लागू पाबंदियों का सम्मान करते हुए अपनी निजी हैसियत से उसमें हिस्सा ले सकते हैं। एक धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र के मुखिया को किसी खास धर्म की गतिविधियों को बढ़ावा देने से बचना चाहिए।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget