मंगल पांडेय की जयंती पर उठे सवाल

तथ्यों से हुआ छेड़छाड़, 30 जनवरी है जन्मदिन

Mangal Pandey
बलिया
आजादी के महानायक मंगल पांडेय की जन्म तारीख विकिपीडिया पर दो दर्ज हैं, इससे देश भर के लोग भ्रमित हो रहे हैं। बलिया के नगवां गांव में जन्मे 1857 आजादी की पहली क्रांति के महानायक मंगल पांडेय की जन्म तारीख अंग्रेजी भाषा की विकिपीडिया में 19 जुलाई 1827 दी गई है, वहीं हिंदी भाषा की विकिपीडिया में 30 जनवरी 1831 दर्ज है। इसके अलावा और भी कई सोशल साइट्स हैं, जहां उनकी जयंती 19 जुलाई 1927 बताई गई है। ऐसे में जाहिर है इस महानायक की जयंती साल में दो बार मनाई जाएगी। इस भ्रम को दूर करने के लिए जब बलिया के जानकारों से बात की गई तो उन्होंने मंगल पांडेय की जन्म तारीख 30 जनवरी 1831 के कई साक्ष्य प्रस्तुत किए।
नगर के निवासी साहित्यकार शिवकमार कौशिकेय कहते मंगल पांडेय पर एक पुस्तक लिखे हैं, क्रांति के प्रथम नायक मंगल पांडेय, उसमें साक्ष्यों के आधार पर ही उनकी जन्म तारीख 30 जनवरी दर्ज किए है। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार के बेसिक शिक्षा परिषद के कक्षा 6 की पाठम्यपुस्तक महान व्यक्तित्व में भी मंगल पांडेय की जयंती 30 जनवरी 1831 है। सूचना विभाग की पुस्तक बलिया दर्शन में भी 30 जनवरी ही जन्मतिथि दर्ज है। 30 जनवरी को ही बलिया में वर्षों से आयोजन होते आ रहे हैं, फिर गूगल सहित विभिन्न वेबसाइट््स पर गलत जयंती देना कहीं से भी उचित नहीं है।
नगर में ही स्थापित शहीद मंगल पांडेय स्मारक समिति कदम चौराहा के अध्यक्ष शशिकांत चतुर्वेदी कहते हैं कि 1987 में विधायक रहे स्व. विक्रमादित्य पांडेय ने विधान सभा में भी इस सवाल को उठाया था। 1990 में कदम चौराहा व उनके नगवां गांव पर मंगल पांडेय की प्रतिमा स्थापित हुई। महानायक के गांव नगवां में भी स्मारक का निर्माण सरकार की ओर से कराया गया है, उनके नाम इंटर कालेज भी है, दोनों स्थानों पर जन्म तारीख 30 जुलाई 1831 ही दर्ज है। ऐसे में उनकी जयंती को 19 जुलाई 1827 बताना इतिहास से छेड़छाड़ है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget