'नमाज घर में की, बकरीद पर कुर्बानी हर हाल में'

कानपुर
मुस्लिमों के प्रमुख त्योहारों में से एक ईद-उल-जुहा की रौनक भी कोरोना वायरस के चलते फीकी रहने वाली है। कोरोना संकट के बीच कैसे बकरीद का त्योहार मनाया जाए, बकरीद पर कुर्बानियां होंगी या नहीं इसको लेकर पूरे समाज में भ्रम की स्थिति बनी हुई है। इस बीच शहर काजी आलम रजा नूरी इस बात की जिद पर अड़े हैं कि बकरीद के मौके पर कुर्बानी हर हाल में होकर रहेगी। उनका कहना है कि ईद, नमाज, तराहवी हमने घर पर कर ली। मगर बकरीद में हमें छूट मिलनी चाहिए।
शहर काजी आलम रजा नूरी के मुताबिक बकरीद बिल्कुल नजदीक है, 21 या 22 तारीख को चांद नजर आएगा। 31 जुलाई या फिर 1 अगस्त को बकरीद होगी। जाहिर सी बात है कि हमारे मुस्लिम समाज में इस बात को लेकर चर्चा है कि कुर्बानी होगी या नहीं होगी, जानवरों की मार्केट लगेगी की नहीं। शहर काजी ने कहा कि कुर्बानी तो हर हाल में होगी, इसलिए कि हर चीज का एक बदल था और हम उसको बदलते रहे।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget