23 पंचायतों के 50 से अधिक गांवों में घुसा बाढ़ का पानी

मुंगेर
गंगा का जलस्तर भले ही स्थिर हो गया है, लेकिन बाढ़ का तांडव जारी है। गंगा के रौद्र रूप को देखकर दियारा क्षेत्र से बड़ी संख्या में लोग पलायन कर रहे हैं। वहीं शहरी क्षेत्र में बाढ़ का बढ़ता दबाव लोगों के लिए परेशानी का सबब बनता जा रहा है। इधर बाढ़ के पानी का फैलाव सदर प्रखंड के साथ ही बरियारपुर, जमालपुर, धरहरा क्षेत्र के चौर क्षेत्र में होने से फसलों की बर्बादी शुरू हो गयी है। हालात ऐसी बन गयी है कि पशु चारा तक की समस्या उत्पन्न हो गयी है।
जिले के सदर प्रखंड, बरियारपुर, जमालपुर एवं धरहरा प्रखंड का 23 पंचायत बाढ़ प्रभावित है। जबकि मुंगेर शहर का 4 वार्ड को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र माना जाता है। गंगा स्थिर होने के बावजूद यहां बाढ़ से जन जीवन अस्त-व्यक्त होने लगा है।
सदर प्रखंड के 6, बरियारपुर के 11, धरहरा के 3 एवं जमालपुर प्रखंड के 3 पंचायत में बाढ़ अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है। मुंगेर सदर प्रखंड के कुत्तलुपुर, बहादुरनगर, जनमडिग्री, तौफिर, टीकारामपुर, भेलवा, सीताचरण, लक्ष्मीपुर, तारापुर दियारा, मनियारचक, चड़ौन, रामगढ, नौवागढ़ी उत्तरी, रहियादीवानी टोला सहित अन्य टोला बाढ़ से प्रभावित है। कई गांवों में तो बाढ़ का पानी घुस गया है। जबकि कई गांव व टोला बाढ़ के पानी से घिरा हुआ है। जिसके कारण गांव टापू बन गया है। बरियारपुपर प्रखंड का कालाटोला, एकाशी, नीरपुर, कल्याणपुर, खड़िया पिपरा, सरस्वती नगर झड़कहवा, बंगाली टोला, पड़िया तक पानी पहुंच गया है। जबकि जमालपुर प्रखंड का फरदा, सिंधिया एवं धरहरा प्रखंड का शिवकुंड, हेमजापुर, दुर्गापुर, लगमा, बाहाचौकी गांव की और पानी तेजी से फैल रहा है। हेमजापुर में तो कई घरों में पानी घुस चुका है।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget