BCCI ने ड्रीम-11 के सामने रखी शर्त!

नई दिल्ली
फंतासी गेमिंग प्लेटफॉर्म ड्रीम-11 ने भले ही इस सत्र में इंडियन प्रीमियर लीग के टाइटिल अधिकार हासिल कर लिए हों लेकिन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड कंपनी से मिली रकम से बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं है। और अगले दो सत्र में भी उसके पास इन अधिकारों का रहना इस पर निर्भर करेगा कि वह अपनी बोली को कितना बढ़ाता है।
बीसीसीआई सूत्रों के अनुसार यही कारण है कि बोर्ड ने अब तक आधिकारिक रूप से ड्रीम11 के नाम की घोषणा आईपीएल टाइटिल अधिकार धारक के रूप में नहीं की है, जबकि लीग के अध्यक्ष बृजेश पटेल ने मंगलवार को इसकी पुष्टि की। ड्रीम11 ने चीन की मोबाइल फोन निर्माता कंपनी वीवो की जगह ली जिसे सीमा पर भारत-चीन तनाव के कारण प्रायोजन से हटना पड़ा।
सूत्रों ने कहा है कि बीसीसीआई और ड्रीम इलेवन अब भी तीन साल के सशर्त करार पर बात कर रहे हैं जिसके तहत अगर वीवो प्रत्येक साल 440 करोड़ रुपये के करार पर वापसी नहीं करता है, तो उसे 2021 और 2022 में प्रत्येक साल 240 करोड़ रुपये का भुगतान करना होगा।
इस मामले की जानकारी रखने वाले बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया कि यह हमेशा से स्पष्ट था कि सर्वश्रेष्ठ बोली लगाने वाले को टाइटिल अधिकार नहीं मिले (बोली लगाने वालों से इच्छा पत्र स्वीकार करने से पहले बीसीसीआई ने यह स्पष्ट कर दिया था), उन्होंने कहा कि ड्रीम11 ने सबसे बड़ी बोली लगाई है और अब भी अधिकार हासिल करने का प्रबल दावेदार है लेकिन आधिकारिक घोषणा से पहले कुछ मुद्दों का हल निकाला जा रहा है,'पता चला है कि बीसीसीआई ड्रीम-11 से बात कर रहा है और चाहता है कि वह दूसरे और तीसरे साल की अपनी बोली में इजाफा करे।
अधिकारी ने कहा कि अगर यह सिर्फ 2020 के लिए है तो 222 करोड़ ठीक है, लेकिन यह तीन साल के लिए सशर्त बोली है। वीवो के साथ हमारा करार अब भी कायम है।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget