मजबूती से चल रही है महाविकास आघाड़ी सरकार: चव्हाण

Ashok Chavan
प्रदेश के सार्वजनिक लोक निर्माण मंत्री अशोक चव्हाण ने कहा कि सरकार कोरोना को नियंत्रित करने में लगी हुई है। उनका दावा है कि प्रदेश की महाविकास आघाड़ी सरकार मजबूत है और अपना कार्यकाल पूरा करेगी। कई मसलों पर उनसे बातचीत हुई। पेश है बातचीत के अंश:


राज्य की आर्थिक स्थिति खराब है, इससे उबरने के सरकार क्या रणनीति बना रही है?
कोरोना महामारी के कारण राज्य की आर्थिक व्यवस्था ठप पड़ गई है। मौजूदा समय में 30 से 35 फीसदी के आसपास व्यापार शुरू है। बाजारों में डिमांड नहीं है, इस वजह से कंपनियों और फैक्ट्रियों में उत्पादन नहीं हो रहा है। जब तक जनजीवन सामान्य नहीं होगा, तब तक ऐसी ही स्थिति बनी रहेगी। देश और राज्य के सभी बाजारों, स्कूलों और कॉलेजों के पूरी तरह खुलने के बाद देश और राज्य की आर्थिक स्थिति सामान्य होगी। ऐसे स्थिति में राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से राज्य की बकाया 22 हजार करोड़ की जीएसटी की रकम को देने की मांग की है।
राज्य की तुलना में केंद्र सरकार की आय के स्रोत बहुत अधिक हैं, इसलिए केंद्र को राज्य की आर्थिक मदद करनी चाहिए। बीते तीन दिन पहले जीएसटी परिषद की हुई। बैठक में केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण देश की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है, लेकिन राज्य को ऐसे विकट परिस्थिति से पटरी पर लाने के लिए केंद्र को राज्य की सहायता करनी चाहिए। राज्य की आर्थिक स्थिति को पटरी पर लाने के लिए सरकार प्रयास कर रही है।

 राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। सरकार इसको नियंत्रण करने लिए क्या कदम उठा रही है?
राज्य सरकार कोरोना से निपटने के लिए काम कर रही है। महाराष्ट्र ही नहीं, बल्कि देश और पूरी दुनिया में कोरोना की स्थिति गंभीर है। सरकार कोरोना के कारण हुए आर्थिक नुकसान की कैसे भरपाई हो सके, इसके लिए कदम उठा रही है। स्कूलों और कॉलेजों को जल्द कैसे शुरू किया जाए, इसे लेकर प्रयास कर रही है। बड़ा सवाल है कि पूरी दुनिया में कोरोना कब खत्म होगा तो यह कहना बेहद मुश्किल होगा। अब देश और राज्य की जनता को कोरोना के साथ मिलकर अपना जीवन आगे बढ़ाना होगा। आत्मनिर्भर भारत को बोलने से नहीं, बल्कि युवाओं और जरूरतमंद लोगों की मदद के साथ हमें आगे बढ़ना पड़ेगा। 

अब तो ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना का कहर देखने को मिल रहा है?

यह सही है कि पहले कोरोना का असर शहरों तक था, लेकिन अब ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना तेजी से फैल रहा है। इसे गंभीरता से न लेते हुए लोग मंदिर और जिम खोलने की मांग कर रहे है। मंदिर, मस्जिद और गुरुद्वारा खोलने से किसी को शिकायत नहीं है, लेकिन अगर कोरोना बढ़ता जा रहा है तो इसकी जिम्मेदारी किसकी होगी। मेरा मानना है कि धार्मिक स्थलों पर राजनीति नहीं होनी चाहिए, लेकिन विपक्ष इस पर राजनीति कर रहा है, जो राज्य की जनता के हित के लिए ठीक नहीं है। जिस तरह शहरों के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना बढ़ रहा है, उसे रोकने के लिए कुछ कड़े निर्णय लेना बेहद जरुरी है। जिस प्रकार कोरोना को शहरों में रोकने के लिए सरकार ने निर्णय लिए थे, उसी प्रकार ग्रामीण क्षेत्रों के लिए लिए जा रहे हैं। 

कोरोना काल के दौरान कांग्रेस पार्टी ने क्या काम किए?

कोरोना काल के दौरान कांग्रेस पार्टी ने लगातार जरूरतमंद लोगों के लिए काम किया। इसमें लॉकडाउन की शुरुआत में अपने-अपने गांव जाने वाले प्रवासी मजदूरों के लिए रेलवे का इंतजाम किया गया। इसके अलावा लोगों को राशन और भोजन का प्रबंध करना, कोरोना से बचने के लिए मास्क और सैनिटाइजर वितरण, ऐसे अनेक काम कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किए। सबसे महत्वपूर्ण बात यह रही कि गरीब और प्रवासी मजदूरों की आर्थिक मदद के लिए सरकार पर दबाव बनाया गया। 

कांग्रेस पार्टी के संगठन की क्या स्थिति है?
प्रदेश में कांग्रेस पार्टी का संगठन लगातार काम कर रहा है। इसी के तहत विद्यार्थियों के भविष्य को देखते हुए कांग्रेस पार्टी ने जीईई और नीट परीक्षा को लेकर पूरे राज्य में आंदोलन किया। राज्य में मराठा समाज को आरक्षण मिले, इसके लिए हमने सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर की। सरकार की मंशा है कि समाज को आरक्षण मिलना चाहिए। इसके अलावा एससी-एसटी की जो भी समस्याएं हैं, उसके निराकरण के लिए पूरा प्रयास किया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी संगठन की जो भी मांग है, उसे हम पूरा करने का प्रयास कर रहे हैं।
राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात मंत्री के साथ-साथ क्या पार्टी संगठन को समय दे पा रहे हैं?
बाला साहेब थोरात राजस्व मंत्री पद के साथ-साथ पार्टी अध्यक्ष का पद संभाल रहे है। सभी के सहयोग के साथ-साथ पांच कार्याध्यक्ष हैं, जो पार्टी के संगठन को संभालने में बड़ी भूमिका निभा रहे हैं।

राज्य की महाविकास आघाड़ी सरकार में सब कुछ ठीक है?
सरकार में सब कुछ ठीकठाक है और इसमें कोई शक नहीं है कि सरकार में शामिल पार्टियां मजबूती के साथ मिलकर सरकार चला रही हैं। महाविकास आघाड़ी सरकार अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी।
लेकिन विपक्ष बार-बार सरकार में अंतर्कलह की बात कर रहा है?
विपक्ष को यह सोचना चाहिए कि जब राज्य में उनकी सरकार थी तो क्या सब कुछ ठीक चल रहा था। ऐसा नहीं था, जब कई पार्टियों के गठबंधन की सरकार होती है तो किसी न किसी विषय पर मतभेद जरूर होते हैं, लेकिन ऐसा नहीं कि सरकार में अंतर्कलह है। जब किसी बात को लेकर मतभेद पैदा होता है तो हम आपस में बैठकर उसे सुलझा लेते हैं। 

राज्य में सड़कों की स्थिति ठीक नहीं है?
राज्य में सड़कों की स्थिति ठीक नहीं है, इससे इंकार नहीं किया जा सकता, लेकिन बारिश बहुत अधिक हुई है। जिस प्रकार सड़कों का काम होनी चाहिए, उस प्रकार अभी नहीं हो पा रहा है। राज्य की जनता को किस तरह अच्छी सड़क मिले, इसके लिए हमारा पूरा प्रयास रहेगा। राज्य सरकार की विभिन्न योजनाएं हैं, जिसके तहत सड़कों का निर्माण किया जाएगा। इस वित्तीय वर्ष के पांच से छह माह बीत चुके हैं। सात माह में बजट में सड़कों की मरम्मत का जो भी काम होगा, वह पूरा किया जाएगा। आने वाले वित्तीय वर्ष में बजट होने के कारण सड़कों का बढ़िया काम हो सकता है।

 अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या को लेकर राजनीति गरमाई हुई है?

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले की जांच सीबीआई कर रही है। इसमें जो भी सच्चाई होगी, वो सामने आएगी। किसी भी मामले की जब जांच चल रही होती है तो वे बातें बाहर नहीं आनी चाहिए, लेकिन इस मामले में जो पूछताछ की जा रही है, वो सारी चीजें बाहर आ रही है। यह उचित नहीं है।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget