'लद्दाख में १९६२ से भी गंभीर स्थिति'

नई दिल्ली
भारत-चीन सीमा तनाव के बीच मौजूदा तनाव को लेकर भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बड़ी बात कही है। जयशंकर ने अपनी बुक रिलीज होने से पहले एक इंटरव्यू में कहा है कि निश्चित रूप से भारत-चीन सीमा पर 1962 के बाद पहली बार इतना तनाव बड़ा है। यह 45 साल की सबसे गंभीर स्थिति है। 1962 युद्ध के बाद पहली बार सैनिकों को अपनी जान गवानी पड़ी है।
एकतरफ बदलाव स्वीकार्य नहीं
विदेश मंत्री जयशंकर कहते हैं कि इस समय दोनों देशों की सीमाओं पर अप्रत्याशित सैनिकों का जमावड़ा है। वह कहते हैं कि लद्दाख में एलएसी पर एकतरफा बदलाव स्वीकार्य नहीं होगा। वह कहते हैं कि समाधान में हर समझौते का सम्मान होना चाहिए।
वह कहते हैं कि सीमा पर इस समय सैन्य और कूटनीतिक दोनों तरह की बातचीत चल रही हैं और कोशिश है कि जल्द ही इसक समाधान किया जा सके। जयशंकर ने कहा है कि भारत और चीन अगर दोनों एक साथ चलें तो आने वाली सदी एशिया की होगी। वह कहते हैं कि इसमें कई समस्याए आएंगी मगर इसका समाधान निकालना होगा।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget