पीपीएफ की छोटी बचत जमा में गिरावट

Saving
नई दिल्ली
बैंक जमा की तुलना में पीपीएफ जैसी कुछ छोटी बचत योजनाओं पर अधिक ब्याज दर के बावजूद, छोटी बचत जमाओं में वृद्धि धीमी हो रही है। एसबीआई के एक अर्थशास्त्री के मुताबिक इसका कारण यह हो सकता है कि लोग कोरोनोवायरस के कारण तरल संपत्तियों में अधिक बचत कर रहे हैं। एसबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक खए19 में, बढ़त वाली लघु बचत जमाओं में 24प्रतिशत हिस्सा सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक का था। दिलचस्प बात यह है कि चालू वित्तीय वर्ष में लोगों ने वित्तीय बचत में लॉक करने के बजाय लिक्विड बैंक डिपॉजिट में अधिक धन रखने की प्रवृत्ति को धीमा कर दिया है। चालू वित्तीय वर्ष में घटकर अब यह 14 प्रतिशत पर आ गई है।
सरकारी प्रतिभूतियों में रिटर्न गिरने के बावजूद, सरकार ने सितंबर तिमाही के लिए छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों में संशोधन नहीं किया। सरकार ने जून तिमाही में 70-140 बीपीएस की तेज कटौती के बाद ब्याज दरों को स्थिर रखा। पीपीएफ में इस समय 7.1 प्रतिशत की दर से ब्याज मिल रहा है। एसबीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार ने फार्मूला का कड़ाई से पालन किया है, विभिन्न छोटी बचतों पर दरें अब 40-50 बीपीएस से कम होंगी और पीपीएफ की दर 7 प्रतिशत से कम होगी। दूसरी ओर, कई बैंकों ने अपनी जमा दरों में कटौती के साथ-साथ वित्तीय प्रणाली में पर्याप्त तरलता के बीच बचत दर में कटौती की है।
कोविड-19 संकट को देखते हुए आरबीआई ने मार्च और मई 2020 के बीच सीआरपीआर में 115 बीपीएस कटौती की। वहीं रिवर्स रेपो में 155 बीपीएस और सीआरपीआर में 100 बीपीएस की कमी कर चुका है। रिपोर्ट में कहा गया है कि बचत बैंक जमा दर में कमी आई है। दूसरी ओर, लॉकडाउन के कारण सप्लाई चेन की बाधाओं ने सीपीआई मुद्रास्फीति में बढ़ोतरी की है। इसलिए बचतकर्ताओं के लिए वास्तविक रिटर्न नकारात्मक हो गई है। रिपोर्ट में कहा गया है, ' हम उम्मीद करते हैं कि मुद्रास्फीति अगले कुछ महीनों तक ऊंचे स्तर पर रहेगी इसलिए वास्तविक ब्याज दर नकारात्मक बनी रहेगी।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget