फ्रांस के रक्षा मंत्री के साथ मोदी देखेंगे राफेल का कमाल!

नई दिल्ली
फ्रांस से खरीदे गए राफेल लड़ाकू विमान जल्द ही औपचारिक रूप से भारतीय वायुसेना का हिस्सा बनेंगे। आईएएफ ने एक औपचारिक समारोह की तैयारी शुरू कर दी है जो कुछ हफ्तों में होगा। अंबाला के एयरफोर्स स्टेशन में खड़े पांचों राफेल अपनी क्षमता पहले ही साबित कर चुके हैं। टेस्ट रेंज में पांचों ने सफलतापूर्वक अपने हथियार फायर किए हैं। आईएएफ के भव्य समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बुलाने की तैयारी है। इसके अलावा फ्रांस के रक्षा मंत्री फ्लोंरेंस पार्ले भी पीएम के साथ मौजूद रह सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, अभी इंडक्शन प्रोग्राम की फाइनल डेट नहीं तय की गई है। इस वक्त राफेल विमानों का 'एआईएफ में इंटीग्रेशन जारी है। चीन के साथ तनाव के बीच पांच राफेल विमान पिछले महीने भारत आए हैं। फ्रांस के रक्षा मंत्री ने भारत का खुलकर समर्थन किया था, साथ ही एक द्विपक्षीय मुलाकात की भी गुजारिश की थी। अंबाला में होने वाले समारोह में उनको न्योता देकर 'एक पंथ दो काज' किए जा सकते हैं। इसी दौरान वह अपने भारतीय समकक्ष, राजनाथ सिंह से मुलाकात कर सकते हैं। जब 29 जुलाई को अंबाला में राफेल विमानों का पहला दस्ता उतरा था, तब 'आईएएफ ने कहा था कि वह अगस्त के सेकेंड हॉफ में इंडक्शन सेरेमनी रख सकता है। वायुसेना का फोकस इस बात पर था कि जल्द से जल्द राफेल को भारत की जरूरतें पूरी करने के लिए तैयार किया जा सके। जब फ्रेंस रक्षा मंत्री आएंगे तो वह मेक इन इंडिया के तहत राफेल विमानों के और बड़े ऑर्डर की संभावना पर बात कर सकते हैं। सूत्रों ने कहा कि बातचीत में भारत के भीतर राफेल विमानों की नई प्रॉडक्शन लाइन बनाने पर सहमति बन सकती है।
भारत 36 राफेल लड़ाकू विमानों का सौदा कर चुका है। सूत्रों के मुताबिक, अगर कम से कम 100 और एयरक्राफ्ट का ऑर्डर हो तो फ्रांस खासी छूट देने को तैयार है। राफेल का ऐडिशनल ऑर्डर पहले 36 एयरक्राफ्ट के लिए चुकाए गए 7.8 बिलियन यूरो से खासा सस्ता पड़ सकता है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget