मंदिर निर्माण आंदोलन का आरंभ है : जोशी

Suresh Bhaiyaji
नई दिल्ली 
अयोध्या में भव्य राममंदिर निर्माण की तैयारियों के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भैया जी जोशी ने कहा कि मंदिर निर्माण, आंदोलन का आरंभ है, अंत नहीं। यह भारत के नये युग की शुरुआत है। इसे महज मंदिर भर मानना भी उचित नहीं है। यह राष्ट्रीय अस्मिता का प्रतीक है। यह सैकड़ों सालों की गुलामी की मानसिकता की बेड़ियों को तोड़ते हुए करोड़ों हिंदुओं में ऊर्जा भरेगा और आदर्शों की प्रेरणा देने वाला केंद्र बनेगा। 
 उन् होंने कहा कि जो-जो भी आक्रांता आएं अपने चिन्ह छोड़कर गए। आक्रांताओं के नाम से मार्ग, उनके बनाए स्मारक और उनकी प्रतिमाओं को देखकर वेदना होती है कि क्या यहीं स्थिति रहेगी। आक्रांताओं के साथ संघर्ष करते हुए पराजित होते रहेंगे। अयोध्या में भी खड़ा ढांचा इसी बात का स्मरण करा रहा था कि तुम पराजित हो। ढांचा हटना और उस स्थान पर राम मंदिर का निर्माण राष्ट्रीय दृष्टिकोण में राष् ट्रीय अस्मिता का प्रतीक है। आने वाली सैकड़ों पीढ़ियों को यह उर्जा प्रदान करता रहेगा। स्वर्गीय अशोक सिंघल के नेतृत्व में यह एक चरण पूरा हुआ। यह प्रारंभ है। मानव स्वरूप में जन् म लेकर राम ने हर रिश्तें और शासन में मर्यादा रखी। अपने जीवन से आदर्श स्वरूप प्रस् तुत किए। 

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget