फिल्म में सेना-सैनिकों को दिखाना अब आसान नही

रक्षा मंत्रालय ने सेंसर बोर्ड, सूचना प्रसारण मंत्रालय को लिखा पत्र

Uri
नई दिल्ली
फिल्मों और वेब सीरीज में भारतीय सेना के अधिकारियों को गलत तरीके से दिखाए जाने की शिकायतों को रक्षा मंत्रालय ने गंभीरता से लिया है। अब मंत्रालय ने सेंसर बोर्ड यानी सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन और सूचना प्रसारण मंत्रालय को लिखा है कि फिल्म, डॉक्यूमेंट्री या वेब सीरीज में अगर आर्म्ड फोर्सेज को किसी भी तरह से दिखाया जाना है तो पहले रक्षा मंत्रालय से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट लें।
हाल के दिनों में फिल्म और वेब सीरीज में भारतीय सेना के अधिकारियों और जवानों का गलत तरीके से चित्रण करने की कई शिकायतें सामने आई हैं। सूत्रों के मुताबिक रक्षा मंत्रालय को कई शिकायत मिली जिसमें कहा गया कि कई वेब सीरीज में इंडियन आर्मी के लोगों का गलत तरीके से चित्रण किया गया है और साथ ही मिलिट्री यूनिफॉर्म की बेइज्जती की गई है। 

कुछ मामलों में पूर्व सैनिकों ने एफआईआर भी दर्ज कराई
रक्षा मंत्रालय के पास जो शिकायतें आई हैं उनमें वेब सीरीज कोड-एम, एक्स एक्स एक्स अनसेंसर्ड (सीजन-2) भी शामिल हैं। शिकायतों में कहा गया है कि इनमें जिस तरह आर्मी के बारे में जिक्र और चित्रण किया गया है वह असलियत से कोसों दूर है और आर्ड फोर्सेस की छवि खराब करने वाला है। कुछ पूर्व सैनिकों ने तो इसके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई है और ओटीटी प्लेटफॉर्म और प्रोड्यूसर पर लीगल ऐक्शन लेने की मांग की है। 

...तो रक्षा मंत्रालय से लेनी होगी एनओसी
अब रक्षा मंत्रालय ने भी औपचारिक तौर पर सूचना और प्रसारण मंत्रालय और सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन को लिखा है कि वह प्रोडक्शन हाउस से कहें कि इंडियन आर्मी थीम से जुड़ी किसी भी फिल्म, डॉक्यूमेंट्री या वेब सीरीज दिखाने से पहले रक्षा मंत्रालय से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (एनओसी) लें। साथ ही प्रॉडक्शन हाउस को सलाह देने को कहा गया कि किसी भी ऐसे चित्रण से बचें जिससे डिफेंस फोर्स की गलत छवि प्रस्तुत होती है और सैनिकों की भावनाएं आहत होती हैं।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget