देश के जांबाजों का सम्मान

NSG commandos
नई दिल्ली
अपनी बहादुरी में जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के नापाक मंसूबों को नाकाम करने वाले सुरक्षाबलों के वीर जवानों को शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया है। भारतीय सेना की ओर से जारी बयान में बताया गया कि हवलदार आलोक कुमार दुबे, मेजर अनिल उर्स और लेफ्टिनेंट कर्नल कृष्ण सिंह रावत को जम्मू-कश्मीर में अलग-अलग अभियानों में अपनी वीरता के लिए शौर्य चक्र से नवाजा गया है।
वीरता के लिए पुलिस पदक की सूची में जम्मू कश्मीर शीर्ष स्थान पर है जिसके खाते में 81 पदक हैं और इसके बाद 55 पदकों के साथ केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल दूसरे स्थान पर है। इस बार किसी को भी राष्ट्रपति पुलिस पदक नहीं मिला है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बताया कि इस बार राज्य एवं केंद्रीय पुलिस बलों को वीरता, विशिष्ट सेवा और मेधावी सेवाओं के लिए कुल 926 पदक दिए गए हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस को 23 वीरता पदक दिए गए हैं। इसके बाद दिल्ली पुलिस, महाराष्ट्र पुलिस और झारखंड पुलिस को क्रमश: 16, 14 और 12 पदक दिए गए हैं। वहीं, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 2008 में बटला हाउस मुठभेड़ में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के निरीक्षक मोहन चंद शर्मा को मरणोपरांत सातवीं बार वीरता पदक दिया गया है। स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर केंद्र सरकार ने वीरता पुरस्कारों की घोषणा की है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस पुलिस बल (सीआरपीएफ) के सहायक कमांडेंट नरेश कुमार को भी कश्मीर घाटी में आतंकवाद विरोधी अभियानों के लिए सातवीं बार वीरता पुरस्कार से नवाजा गया है।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget