पाक की फौज ने तालिबानी आतंकी को छोड़ा

उससे कहा- ये हिट लिस्ट रखो, कोई विरोधी बचने न पाए

Terrorist
नई दिल्ली
पाकिस्तान सरकार और फौज आतंकियों का इस्तेमाल अपने दुश्मनों का ठिकाने लगाने में करते हैं, इस बात का खुलासा आतंकी संगठन तालिबान के प्रवक्ता एहसानउल्ला एहसान ने खुद किया है। एहसान ने अप्रैल 2017 में फौज के सामने सरेंडर किया था। जनवरी 2019 में पता लगा कि एहसान फौज की कस्टडी से भाग गया है। इस पर किसी को यकीन नहीं हुआ। अब एक ऑडियो टेप जारी कर एहसान ने कहा है कि फौज ने उसे रिहा किया था। एहसान के मुताबिक- फौज ने उसे डेथ स्कवॉड बनाने को कहा। एक हिट लिस्ट दी। इसमें कई पत्रकार हैं जो फौज या सरकार के खिलाफ लिखते हैं। महिला पत्रकार आरजू इकबाल की हत्या की बात भी कबूल की।

सरकार और फौज को विरोध मंजूर नहीं
अहसान ने ऑडियो टेप में कहा- मुझे कहा गया है कि आप एक डेथ स्कवॉड बनाएं। गद्दारों के खिलाफ काम शुरू करें। मुझे एक हिट लिस्ट दी गई। इसमें ज्यादातर खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के पश्तून हैं। कई पत्रकार के भी नाम हैं। मिलिट्री इंटेलिजेंस के कई अफसरों ने मुझसे बातचीत की।
2014 में मलाला यूसुफजई पर हमला एहसान के इशारे पर ही किया गया था। इसकी जिम्मेदारी भी उसने ली थी। खास बात ये है कि जिस दौर में एहसान पाकिस्तानी फौज की कैद में था, तब भी उसके सोशल मीडिया अकाउंट्स एक्टिव थे। हिरासत के दौरान उसने कई ट्वीट किए थे।
बुधवार को पाकिस्तान की 30 महिला पत्रकारों ने सोशल मीडिया पर एक बयान जारी किया। इसमें कहा- हमें कई तरह की धमकियां मिल रही हैं।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget