अस्पताल पहुंचने में देरी के कारण ज्यादा मौते

पालघर
पालघर जिले के जिलाधिकारी डॉ कैलाश शिंदे ने बुधवार को कहा कि गंभीर हालत वाले रोगियों की जांच और अस्पताल में भर्ती होने में देरी के कारण जिले में कोविड-19 से होने वाली मौतों में इजाफा हुआ है। जिलाधिकारी ने एक आधिकारिक बयान में कहा कि 60 प्रतिशत कोविड-19 मरीजों ने अस्पतालों में भर्ती होने के 72 घंटों के भीतर दम तोड़ दिया। उन्होंने कहा कि यह इंगित करता है कि कोविड-19 के अधिकतर संदिग्ध मरीज सही समय पर जांच नहीं करवाते हैं और हालत गंभीर होने जाने पर अस्पतालों में भर्ती होते हैं। डॉ शिंदे ने कहा कि जिले में जांच बढ़ाने के लिए गांवों या वार्डों में जांच शिविर लगाए जाएंगे। पालघर में कोविड-19 के 22,745 मामले हैं और 456 मरीजों की मौत हुई है। इस बीच राज्य के औरंगाबाद से मिली एक रिपोर्ट के अनुसार जिले में बुधवार को 123 लोगों को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है, जिससे जिले में संक्रमण के 21,515 मामले हो चुके हैं। इनमें से 67 मामले औरंगाबाद शहर में मिले हैं, जबकि 56 मामले ग्रामीण क्षेत्रों में पाए गए हैं। जिले में वर्तमान में 4,430 मरीज उपचाराधीन हैं। जिले में अब तक संक्रमण के कारण 645 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि अब तक 16,440 लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget