विकास दुबे का साथी बचने के लिए भगवा कपड़े पहनकर साधु बना


चित्रकूट
 उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी विकास दुबे के साथी बचे साथियों पर अब पुलिस का शिकंजा तेजी से कसता जा रहा है। पुलिस भागे बदमाशों को गिरफ्तार कर रही है। इसी कड़ी में मंगलवार को पुलिस ने चित्रकूट के कामता नाथ मंदिर में साधू बनकर रह रहे विकास दूबे के साथी बालगोविंद दुबे को गिरफ्तार कर दिया। पुलिस ने इस पर पचास हजार का इनाम रखा था। 
बालगोविंद ने पुलिस को बताया है कि 2 जुलाई की रात को वह विकास के साथ छत पर मौजूद था। उसने पुलिस पर दो बम फेंके और बंदूक से फायरिंग की थी। विकास ने उससे कहा था कि एक भी पुलिस वाला बचना नहीं चाहिए। 
पुलिस को यह भी जानकारी हुई है कि बिकरू कांड का सूत्रधार बालगोविंद ही था। उसके दामाद विनीत का अपने बहनोई राहुल तिवारी के साथ जमीन का विवाद था। इसके चलते राहुल ने चौबेपुर थाने में एफआईआर दर्ज कराई थी। इसी मामले में दबिश देने पुलिस टीम बिकरू गई थी। 
पाये गए हैं। 

 दो दिन गांव के पास ही छिपा रहा 
गांजे के लती बालगोविंद ने घटना के बाद गांव के बाहर एक जोगी के यहां शरण ली। वहां दो दिन रहा और 4 जुलाई की रात खेरेश्वर मंदिर पहुंच गया। 5 की सुबह उसने मंदिर के पास घाट पर गंगा स्नान कर गेरुवा कपड़े पहन लिए। कपड़े उसने शिवराजपुर की एक दुकान से खरीदे थे। 6 जुलाई को खेरेश्वर मंदिर से शिवराजपुर होते हुए चौबेपुर थाने के सामने से झकरकटी बस अड्डे पहुंचा। वहां से बस से चित्रकूट चला गया और वहां मध्य प्रदेश क्षेत्र में नयागांव थाना अंतर्गत आरोग्यधाम के समीप मंदाकिनी नदी के किनारे एक आश्रम में रहने लगा। वहीं पर दान में मिला खाना खाता था। कपड़े देखकर उसे मंदिर में रहने से किसी ने रोका भी नहीं। 

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget