कांग्रेस छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर ना करे राजनीति: पाटिल

मुंबई
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि अपनी विफलता से हताश हो चुकी कांग्रेस पार्टी को अपना राजनीति महत्व बनाए रखने के लिए छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम का उपयोग नहीं करना चाहिए। वे शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। पाटिल ने कहा कि सांसद उदयन राजे भोंसले ने कुछ दिन पहले ही
राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ ली थी, उस समय उन्होंने छत्रपति शिवाजी महाराज का सत्कार किया, जिस पर वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और गुलाम नबी आजाद ने आपत्ति जताई, इसलिए, राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने नियमों को स्पष्ट किया। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्यसभा में शपथ ग्रहण के दौरान कांग्रेस पार्टी ने झूठ बोलते हुए कहा कि सभापति ने छत्रपति शिवाजी महाराज का नाम लेने से उदयन राजे भोंसले को रोका था। अगर कांग्रेस नेताओं को उदयन राजे की घोषणा पर आपत्ति नहीं होती, तो विवाद ही पैदा नहीं होता। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि कर्नाटक के बेलगाम जिले के मंगुट्टी में छत्रपति शिवाजी महाराज की एक मूर्ति को हटाने से हाल ही में विवाद छिड़ गया। स्थानीय ग्रामीणों के दो समूहों के बीच विवाद के कारण यह घटना हुई। कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सतीश जारकीहोली वहां के स्थानीय विधायक हैं। इस विवाद में उनकी भूमिका अहम है। इस संदर्भ में कांग्रेस विधायक का बयान सार्वजनिक हो गया है, इसलिए महाराष्ट्र में कांग्रेस नेताओं को इस विवाद में नहीं पड़ना चाहिए। कांग्रेस नेता से जुड़े घटनाक्रम के कारण छत्रपति शिवाजी महाराज और राजनीतिक दंगे फिर से शुरू हो गए हैं। पाटिल ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज महाराष्ट्र के नहीं, बल्कि पूरे देश के देवता हैं। कांग्रेस पार्टी कुछ दिनों से छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर विवाद खड़ा कर भाजपा को बदनाम करने की कोशिश कर रही है, जिसका मैं तीव्र निषेध करता हूं। पाटिल ने कहा कि भाजपा के साथ कांग्रेस लड़ाई लड़ना चाहती है, तो जरूर लड़े, लेकिन छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर कांग्रेस पार्टी को राजनीति नहीं करना चाहिए।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget