गिरी इमारत,13 की मौत

Bhivandi building
मुंबई
भिवंडी में एक तीन मंजिला इमारत गिरने से दर्दनाक हादसा हो गया। सोमवार तड़के 3 बजे हुए हादसे में अब तक 13 लोगों की जान चली गई है। इनमें चार महिलाएं और नौ पुरुष शामिल हैं। अभी भी राहत और बचाव कार्य में एनडीआरफ युद्ध स्तर पर जुटी हुई है। एनडीआरएफ के मुताबिक, अभी भी मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है। एनडीआरएफ और दमकल विभाग की मदद से अब तक 20 लोगों को सुरक्षित जिंदा निकाला गया है। इनमें 10 पुरुष,नौ महिलाएं और एक बच्चा शामिल है।
राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने जताया शोक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हादसे पर दुख जताया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया-मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ है। घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं। रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। प्रभावित लोगों को हरसंभव सहायता देने की कोशिशें की जा रही हैं।

सरकार की तरफ से पांच-पांच लाख का मुआवजा
एकनाथ शिंदे ने घटनास्थल का जायजा लिया और अस्पताल में घायलों से मुलाकात कर बेहतर इलाज का भरोसा
 दिया है। शिंदे ने मृतक के परिजन को पांच लाख रुपये की आर्थिक मदद देने का भी ऐलान किया है। उन्होंने बताया कि इस इमारत को पांच फरवरी को नोटिस दी गई थी, लेकिन लोगों ने खाली नहीं किया।

घंटों चला रेस्क्यू ऑपरेशन
सोमवार सुबह 3 बजकर 40 मिनट पर धमनकर नाका के पास पटेल कंपाउंड में इमारत उस वक्त गिर गई, जब सब लोग सोए हुए थे। इस दौरान तकरीबन अब तक 20 लोगों को रेस्क्यू किया गया । हादसे की जानकारी मिलते ही एनडीआरएफ की टीम तत्काल मौके पर पहुंची। उसने मलबे में फंसे लोगों को बाहर निकालना शुरू किया। इस दौरान मलबे से एक छोटे बच्चे का भी रेस्क्यू किया गया। उसकी हालत ठीक नहीं थी तो उसे तत्काल अस्पताल भेज दिया गया।
महाराष्ट्र सरकार में गृह निर्माण मंत्री जितेन्द्र आव्हाड ने कहा कि 1986 में इस बिल्डिंग का निर्माण हुआ था। इसे खाली करने का नोटिस दिया गया था। कानूनी झंझट के कारण इसे खाली नहीं किया गया।
कुछ दिन पहले मैंने इसको लेकर एक मीटिंग की थी। मैं इस बात को दोहरा रहा हूं कि अवैध निर्माण को लेकर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। जब तक इलाके के पुलिस और वार्ड ऑफिसर पर जिम्मेदारी तय नहीं होती तब तक ऐसी चीजें नहीं रुकेंगी।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget