33 लाख लोगों ने कोरोना को हराया

Corona Test
नई दिल्ली
देश में कोविड-19 महामारी की स्थिति को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया। इसमें स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण, आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव और नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल मौजूद रहे। प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में कोरोना वायरस से ठीक होने वाली मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है और मृत्यु दर में कमी देखने को मिल रही है। मंत्रालय ने कहा कि देश के कुल सक्रिय मामलों के 62 फीसदी मामले पांच राज्यों में हैं।

रिकवरी रेट में लगातार बढ़त
मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने कहा कि भारत में कोरोना वायरस मरीजों के ठीक होने की दर (रिकवरी रेट) लगातार बढ़ रही है।
उन्होंने कहा कि इसी लिए सक्रिय मामलों और रिकवर मामलों के बीच का अंतर भी बढ़ रहा है। आज देश में आठ लाख 83 हजार सक्रिय मामले हैं तो 33 लाख 23 हजार लोग ठीक हो चुके हैं। भूषण ने कहा कि भारत में प्रति 10 लाख की आबादी पर 3102 कोरोना के मामले हैं। यह दुनियाभर के मुकाबले सबसे कम संक्रमण की स्थिति है। उन्होंने कहा, दुनिया में 10 लाख की आबादी पर मामलों की संख्या 3527 है। मैक्सिको में यह 4950, रूस में 7063, अमेरिका में 19,549 और ब्राजील में यह संख्या 19,514 है।

लगातार बढ़ रही जांच की रफ्तार
राजेश भूषण ने कहा कि प्रति 10 लाख की जनसंख्या पर जांच की संख्या 24 अगस्त को 26,016 थी जो अब बढ़कर 36,703 हो गई है। पिछले सप्ताह रोज 10 लाख से अधिक जांच की गई हैं।

देश में मृत्यु दर 1.70 फीसदी
भूषण ने कहा कि देश में प्रति 10 लाख की जनसंख्या पर 53 मौतें दर्ज की गई हैं। उन्होंने कहा कि जिन देशों से हमारी तुलना की जाती है वहां प्रति 10 लाख की जनसंख्या का आंकड़ा 500 से 600 तक है। उन्होंने कहा कि अगस्त में भारत में कोरोना मृत्यु दर 2.15 फीसदी थी जो अब 1.70 फीसदी रह गई है। वायरस से डरना है, जांच से नहीं। आईसीएमआर ने कहा कि किसी व्यक्ति को जांच ने नहीं डरना चाहिए।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget