पंचायत चुनाव: इस बार 550 से अधिक ग्राम प्रधान हो सकते हैं कम

लखनऊ

उत्तर प्रदेश में इस बार गांव की सरकार सिमट जाएगी। वर्ष 2015 में हुए पंचायत चुनाव के बाद राज्य में कोई नई ग्राम पंचायत तो गठित नहीं हुई बल्कि सैकड़ों पंचायतें पूर्णत: या आंशिक रूप से शहरी क्षेत्रों में जरूर शामिल कर ली गईं। ऐसे में इस बार ग्राम प्रधान के पद हो जाएंगे। पंचायतीराज विभाग नगर निगम या नगर पंचायत में पूर्णत: या आंशिक रूप से शामिल की गई ग्राम पंचायतों का ब्योरा तैयार कर रहा है। राज्य निर्वाचन आयोग को पंचायतीराज विभाग से अभी तक मिली सूचना के अनुसार प्रदेश की 587 ग्राम पंचायतें पूर्ण रूप से और 680 पंचायतें आंशिक रूप से शहरी क्षेत्रों में शामिल की जा चुकी हैं। जो 680 ग्राम पंचायतें आंशिक रूप से शहरी क्षेत्र में शामिल हुई हैं, अगर उनकी आबादी एक हजार से कम हो गई है तो अब ऐसी पंचायतों के बाकी बचे वार्ड किसी अन्य पंचायत में शामिल किए जा सकते हैं।

अब तक की स्थिति के अनुसार ग्राम प्रधानों के 587 पद खत्म हो गए हैं। इसी क्रम में करीब दो से तीन हजार ग्राम पंचायत सदस्यों के पद भी खत्म होने की बात है। वेद प्रकाश वर्मा, अपर निर्वाचन आयुक्त, राज्य निर्वाचन आयोग यूपी कहते हैं कि जो पंचायतें पूरी तरह शहरी क्षेत्र में चली गई हैं वहां ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत सदस्य के पद खत्म हो गए हैं। जो पंचायतें आंशिक रूप से शहरी क्षेत्र में शामिल की गई हैं, उनके बारे में सरकार को निर्णय लेना होगा कि 1000 की आबादी से कम होने पर उस पंचायत का अस्तित्व कायम रहेगा या नहीं।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget