अब चीन की नजरें भूटान पर

Bhutan
नई दिल्ली
चीन और भूटान के बीच सीमा वार्ता के 25वें दौर के बाद, पीपुल्स लिबरेशन आर्मी इस साम्राज्य के खिलाफ भी एक मोर्चा खोलने वाली है। बीजिंग अपने मन-मुताबिक सीमा समस्या के निपटारे के लिए ऐसा करने वाला है। इसके लिए वह भूटान की पश्चिमी और मध्य भागों की सीमा पर लगातार सैनिकों को जुटा रहा है। इस मामले के जानकार लोगों का कहना है कि आगामी बातचीत में, चीन अपनी सेना के मध्य भूटान के भागों में पहले से ही कब्जाए गये इलाकों का साम्राज्य के पश्चिमी इलाकों से अदला-बदली किए जाने के लिए मोलभाव कर सकता है। उन्होंने बताया कि हालांकि भूटान को पीएलए के उच्चतम स्तर के खतरे की जानकारी दे दी गई है। भारत और चीन हाल ही में पूर्वी लद्दाख में चार महीने तक चलने वाले सैन्य गतिरोध को हल करने के लिए पांच-सूत्रीय सर्वसम्मति पर पहुंचे थे, जिसमें सैनिकों को 'जल्दी से पीछे हटाने' के लिए सहमति, तनाव बढ़ा सकने वाली किसी भी कार्रवाई से बचने और वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति बहाल करने के लिए कदम उठाने की बात कही गई थी।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget