उपराष्ट्रपति ने मूल्य आधारित शिक्षा पर दिया जोर

नई दिल्ली
उपराष्ट्रपती एम वेंकय्या नायडू ने बच्चों के समग्र विकास के लिए मूल्य आधारित शिक्षा पर जोर दिया। उन्होंने मूल्य आधारित शिक्षा और शिक्षण को शिक्षा प्रणाली का अभिन्न हिस्सा बनाने का आव्हान किया। नायडू 'हार्टफुलनेस ऑल इंडिया एसे इवेंट' की ऑनलाईन शुरुआत के अवसर पर बोल रहे थे। यह आयोजन संयुक्त राष्ट्र आंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में हर साल जुलाई से नवंबर के बीच होता है। राष्ट्रपति ने मूल्य आधारित शिक्षा पर ध्यान देने के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की प्रशंसा की और कहा कि मूल्यों पर जोर 'प्राचीन समय से ही हमारी सभी शिक्षाओं का अभिन्न अंग' रहा है। नायडू ने कहा कि आज के दिन और तेजी से आगे बढ़ते सूचना प्रौद्योगिकी जगत में मूल्य आधारीत शिक्षा का काफी महत्व है। आधिकारिक बयान के अनुसार सार्वभौमिक मूल्यों पर आधारित नींव के पुनर्निर्माणकी आवश्यकता व्यक्त करते हुए उपराष्ट्रपति ने जड़ों की ओर लौटने और भारत की पारंपरिक शिक्षा पद्धतियों संबंधी ज्ञान को स्थापित करने का आव्हान किया। नायडू ने सरकारों, अभिभावकों, शिक्षकों, संस्थानों और स्वयंसेवी संगठनो का आव्हान किया की वे छात्रों को जीवन का महत्वपूर्ण पाठ पढ़ाने में अग्रणी भूमिका निभाए। उन्होंने विश्वास जताया कि यदि देश इस दिशा में आगे बढ़ता है तो भारत मूल्य आधारित शिक्षा के पुनरुत्थान का नेतृत्व करेगा जिसका पूरी दुनिया अनुसरण करेगी। उपराष्ट्रपति ने विश्वविद्यालयों से मानकों में सुधार करने को कहा जिससे भारत ज्ञान और नवोन्मेष का अग्रणी केंद्र बन सके। नायडू ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र और निजी क्षेत्र के संस्थानों को अनुसंधान में व्यापक निवेश करना चाहिए।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget