प्याज निर्यात पर रोक हटाने की मांग

मुंबई
प्रदेश के मंत्रियों ने केंद्र सरकार से प्याज निर्यात पर प्रतिबंध को तत्काल हटाने की मांग की है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष तथा राजस्व मंत्री बालासाहब थोरात ने कहा कि केंद्र सरकार का फैसला हानिकारक है। प्याज के निर्यात पर लगी रोक को तत्काल वापस लिया जाए। थोरात ने कहा कि प्याज निर्यात पर लगी रोक को हटाने के लिए बुधवार को कांग्रेस की ओर से राज्य भर में आंदोलन किया जाएगा। प्रदेश के नागरिक आपूर्ति व ग्राहक संरक्षण मंत्री छगन भुजबल ने कहा कि केंद्र सरकार के फैसले के कारण महाराष्ट्र के किसानों को बड़ा नुकसान होगा। इसलिए महाराष्ट्र के सभी सांसदों को एकजुट होना चाहिए। भुजबल ने कहा कि इस तरह से अचानक फैसला लेने से प्याज निर्यात का व्यापार टूट जाता है। दूसरे देश किसी और देश से प्याज खरीदने लगते हैं।
प्रदेश के कृषि मंत्री दादाजी भुसे ने कहा कि केंद्र सरकार को तत्काल प्याज निर्यात पर रोक हटा देना चाहिए। हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस बारे में मांग करेंगे। प्रहार संगठन के प्रमुख तथा प्रदेश के स्कूली शिक्षा राज्य मंत्री बच्चू कडू ने कहा कि प्याज को जीवनावश्यक वस्तुओं की सूची से बाहर कर दिया गया है। ऐसे में केंद्र सरकार को यह फैसला लेने की कोई जरूरत नहीं थी।
रयत क्रांति संगठन के संस्थापक तथा पूर्व कृषि राज्य मंत्री सदाभाऊ खोत ने कहा कि केंद्र सरकार ने फैसला वापस नहीं लिया तो महाराष्ट्र के किसान सड़क पर आ जाएंगे। स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के नेता रविकांत तुपकर ने कहा कि केंद्र सरकार ने प्याज निर्यात पर रोक लगाकर किसानों को आत्महत्या के द्वार पर खड़ा कर दिया है।
वहीं भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ.अनिल बोंडे ने कहा कि प्याज निर्यात पर लगी रोक को हटाने के लिए प्रयास चल रहा है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल और विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने इस संबंध में केंद्रीय मंत्री गोयल से बातचीत की है।

फैसले पर पुनर्विचार हो: पवार
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने मंगलवार को केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात कर कहा कि प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के अचानक लिए गए निर्णय पर केंद्र को पुनर्विचार करना चाहिए। पवार ने ट्वीट किया कि गोयल ने उन्हें आश्वासन दिया है कि इस मुद्दे पर वाणिज्य, वित्त और उपभोक्ता मामलों के मंत्रालयों के बीच यदि सहमति बनती है तो सरकार निर्णय पर पुनर्विचार करेगी। राकांपा अध्यक्ष ने मंत्री से कहा कि निर्यात पर प्रतिबंध लगाने से अंतर्राष्ट्रीय बाजार में प्याज के भरोसेमंद आपूर्तिकर्ता की भारत की छवि को नुकसान पहुंचेगा। केंद्र सरकार ने घरेलू बाजार में प्याज की उपलब्धता बढ़ाने और कीमत पर लगाम लगाने के उद्देश्य से इसके निर्यात पर सोमवार को प्रतिबंध लगा दिया था।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget