बीडीडी चाल पुनर्विकास में आ रही अड़चन को किया जाए दूर: ठाकरे

तीन साल से ठप्प पड़ा है रिडेवलपमेंट का काम

Chawl
मुंबई
पिछले कई वर्षों से अटकी पड़ी बीडीडी चाल की पुनर्विकास योजना को लेकर सरकार गंभीर है। चाल के 9600 निवासियों के दस्तावेजों की जांच और उनकी पात्रता के लिए एक शिविर आयोजन कर निर्धारित समय के भीतर यह काम पूरा किया जाना चाहिए। शुक्रवार को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में बीडीडी चाल के पुनर्विकास के लिए बैठक आयोजित की गई थी, जिसमें मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने यह बात कही। उन्होंने इस संबंध में राजस्व विभाग को उप जिलाधिकारी और तहसीलदार नियुक्त करने का निर्देश दिया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि एनएम जोशी मार्ग में 2500 और 32 झोपड़पट्टी, जबकि नायगांव में 42 झोपड़पट्टी और 3300 किराएदार हैं। जिनके पुनर्विकास और किराएदारों के पुनर्वसन की प्रक्रिया तत्काल शुरू करने का निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया। उन्होंने कहा कि किराएदारों के पुनर्वसन के बाद झोपड़पट्टियों के पुनर्विकास में आने वाली अड़चनों को तत्काल दूर कर विकास कार्य शुरू किया जाए। इस संबंध में गृहनिर्माण विभाग के प्रमुख सचिव एसवीआर श्रीनिवास ने शुरुआत में बीडीडी भूखंडों और इन परियोजनाओं के पुनर्विकास के बारे में मुख्यमंत्री को जानकारी दी और बताया कि विभिन्न कारणों से पिछले तीन वर्ष से पुनर्विकास का काम रुका हुआ है, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि आम आदमी को मकान मिलना चाहिए और इसके लिए इन सभी समस्याओं को दूर कर पुनर्विकास को समयबद्ध तरीके से किया जाना चाहिए और हर कुछ दिनों में इसकी समीक्षा की जानी चाहिए। बैठक में पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे, मुख्यमंत्री के प्रमुख सलाहकार अजोय मेहता, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव आशीष कुमार सिंह सहित सभी संबंधित अधिकारी मौजूद थे।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget