नेपाल ने भारतीय सीमा के पास बनाए तीन हेलीपैड

Helipad
महराजगंज
भारत से लगी सीमा पर नेपाल लगातार अपनी सैन्य क्षमता बढ़ा रहा है। भारतीय सीमा से महज 12 किलोमीटर की दूरी पर नेपाल में तीन हेलीपैड बनाए गए हैं। नेपाल के नवलपरासी जिले के नरसही के वार्ड नंबर चार, त्रिवेणी के आर्मी कैंप व उज्जैनी के समीप हेलीपैडों का निर्माण पूरा हो चुका है। हेलीपैड बनने के बाद भारतीय सुरक्षा एजेंसियां चौकन्नी हो गईं हैं। सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) ने इसकी रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेजी है। सुरक्षा की दृष्टि से नेपाल सरकार का यह कदम बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है। तीनों हेलीपैडों की सुरक्षा नेपाल के सशस्त्र पुलिस बल के जिम्मे है। सुस्ता गांव पालिका के नरसही के वार्ड नंबर चार में जिस स्थान पर हेलीपैड का निर्माण हुआ है, वहां पर नेपाल सरकार ने 10 एकड़ भूमि का अधिग्रहण किया है। यहां नेपाली एपीएफ के जवानों के लिए स्थाई बैरक व हथियार रखने के लिए बंकर का निर्माण भी प्रस्तावित है। भारत के झुलनीपुर सीमा से नरसही हेलीपैड की दूरी सात व त्रिवेणी की दूरी 12 किलोमीटर है। उज्जैनी में बना हेलीपैड ठूठीबारी सीमा से 10 किमी पूरी पर है। सीमा पर सशस्त्र पुलिस बल की तैनाती के बाद नेपाल व्यवस्था को चाक चौबंद करने में जुटा है। भगवानपुर, बरगदवा, ठूठीबारी, झुलनीपुर से लगी भारतीय सीमा के समीप नेपाल ने निगरानी के लिए अस्थाई कैंप बनाए हैं। 1880 किमी लंबी सीमा पर नेपाल सैन्य कैंपों की संख्या बढ़ा रहा। इसी क्रम में चितवन जिले में तीन बार्डर आउट पोस्ट का निर्माण आरंभ कर दिया गया है। प्रत्येक पोस्ट पर 35 जवानों की तैनाती होगी। भारतीय सीमा के समीप नेपाल ने बीओपी निर्माण के लिए जितने भी टेंट लगाए हैं, सभी पर चीनी भाषा में लिखा है। सीमा पर तैनात सुरक्षा अधिकारियों के मुताबिक नेपाल ने चीनी भाषा में लिखे टेंटों का प्रयोग भारतीय सुरक्षा बलों पर दबाव बनाने के लिए किया है। महराजगंज एसपी रोहित सिंह सजवान ने कहा कि सीमा पर चौकसी बरती जा रही है। सीमा सील होने के चलते किसी को भी भारत में प्रवेश की अनुमति नहीं है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget