'फांसी मंजूर, मगर जमानत नहीं लूंगी'

30 सितंबर को बाबरी विध्वंस केस में आएगा फैसला

Uma Bharati
लखनऊ
बीजेपी की वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर बाबरी विध्वंस मामले का जिक्र किया है। उन्होंने कहा कि 30 सितंबर को सीबीआई की विशेष अदालत का फैसला आ रहा है और मुझे पेश होना है। अदालत का हर फैसला मेरे लिए भगवान का आशीर्वाद होगा। मैंने हमेशा कहा है कि अयोध्या के लिए तो फांसी भी मंजूर है।
मुझे नहीं पता कि फैसला क्या होने वाला है, मगर जो भी हो मैं जमानत नहीं लूंगी। 28 साल पुराने बाबरी विध्वंस मामले में सीबीआई की स्पेशल अदालत 30 सितंबर को फैसला सुनाने वाली है। इस मामले में उमा भारती के अलावा बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी समेत कई अन्य आरोपी हैं। दूसरी तरफ बाबरी मुद्दई इकबाल अंसारी ने फिर दोहराया कि अब जब राममंदिर पर फैसला आ चुका है तो मंदिर-मस्जिद से जुड़े सभी मुकदमों को खत्म कर देना चाहिए और आरोपियों को बरी करने पर विचार करना चाहिए। सबकी नजरें फिलहाल कोर्ट पर हैं कि 30 सितंबर को आने वाले फैसले में वह किसे कितनी सजा सुनाती है और किसको राहत देती है।
बाबरी विध्वंस मामले में आरोपी बनाए गए अन्य लोगों का भी कहना है कि कोर्ट का जो भी फैसला होगा हमें मंजूर होगा। उनका कहना है कि हमने कोई गलत काम नहीं किया था। हमने रामकाज किया था, जो सफल हो गया है और हमें इस बात का गर्व है। बाबरी विध्वंस में आरोपी बनाए गए शिवसेना के पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रभारी संतोष दुबे ने कहा कि हमने किसी भी तरह की मस्जिद नहीं गिराई बल्कि मंदिर के स्थान पर बने महाजिद को गिराया था और हमें इस बात का गर्व है।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget