रक्षामंत्री संसद में चीनी सीमा विवाद पर दे सकते हैं बयान

नई दिल्ली
एलएसी को लेकर सरकार की तरफ से संसद में इस मुद्दे पर बयान दिया जा सकता है। खबर है कि राजनाथ सिंह चीन मामले पर संसद में बोल सकते हैं। हालांकि मुद्दे की संवेदनशीलता के चलते इससे जुड़ी सभी जानकारी नहीं दी जाएगी। वहीं स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन सिंह कोरोना के मसले पर संसद में बयान दे सकते हैं। एलएसी पर तनाव घटाने के लिए भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की बीच हुई बातचीत के बाद अब दोनों देशों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत होनी है। जिसमें पैंगोंग संकट के हल होने की संभावना जतायी जा रही है। हालांकि अभी तक इसकी तारीख तय नहीं है लेकिन माना जा रहा है कि यह अगले हफ्ते हो सकती है।
चीन भारत को घेरने का प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में वह भारत के पड़ोसी देशों में खूब निवेश कर रहा है। इसी कड़ी में चीन म्यांमार में भी अपने पैर जमाने की कोशिश कर रहा था लेकिन अब भारत के नजरिए से एक अच्छी खबर आयी है। दरअसल म्यांमार की सरकार और सेना अब चीन से दूर जाती दिखाई दे रही है। क्योंकि म्यांमार सरकार चीन के कर्ज के जाल में फंसने को लेकर सतर्क है और चीन के कर्ज से बनने वाले कई प्रोजेक्ट की समीक्षा कर रही है।
इसी तरह म्यांमार की सेना भी चीन से नाराज है। भारत के लिए यह अच्छी बात इसलिए है क्योंकि इससे भारत, म्यांमार के साथ अपने संबंधों को और बेहतर बना सकता है और अपने पड़ोस में चीन के प्रभाव को बढ़ने से रोक सकता है। इसके साथ ही म्यांमार से संबंध बेहतर होने पर उत्तर पूर्वी राज्यों में भी विद्रोही गुटों के खिलाफ सरकार बेहतर कार्रवाई कर पाएगी। दरअसल ये विद्रोही गुट हिंसा के बाद अभी तक म्यांमार की सीमा में चले जाते हैं, जिससे भारत सरकार इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं कर पा रही थी। अब भारत को इस दिशा में भी फायदा मिलने की उम्मीद की जा सकती है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget