चिराग पासवान को मिला लोजपा में फैसले का अधिकार

पटना
बिहार विधानसभा चुनाव की सुगबुगाहट अब तेज हो गई हैं। आज लोक जनशक्ति पार्टी के बिहार संसदीय बोर्ड की बैठक में गठबंधन को लेकर हुआ फैसला हुआ। पार्टी ने गठबंधन को लेकर फैसला करने का अधिकार राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान को सौंपा है। इसके बाद गठबंधन और सीट बंटवारे को लेकर कोई भी फैसला चिराग पासवान ही लेंगे।

मांझी के प्रति लोजपा के तेवर नरम
बैठक में तय हुआ कि 143 सीटों पर उम्मीदवारों की लिस्ट तैयार कर राष्ट्रीय संसदीय बोर्ड के पास भेजा जाएगा। बैठक में से यह खबर निकल कर आई कि पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के मुद्दे पर एलजेपी के तेवर नरम हैं। मांझी के सवाल पर राजू तिवारी ने कहा,' हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा है कि मांझी हमारे परिवार के बहुत वरिष्ठ सदस्य हैं, उनके बारे में किसी को कोई कमेंट नहीं करना है।
लोजपा संसदीय बोर्ड की बैठक में सभी सदस्यों ने अपनी नाराजगी जताते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। सदस्यों ने कहा कि जेडीयू के नेता कहते हैं कि एलजेपी से गठबंधन नहीं है। ऐसे में लोजपा को जेडीयू के खिलाफ प्रत्याशी देना चाहिए। कार्यकर्ताओं से सुझाव लेकर आए सभी सदस्यों ने बैठक में बताया कि मुख्यमंत्री के नाम से प्रदेश की जनता में उत्साह नहीं है। सदस्यों ने आरोप लगाया कि राज्य का काम सरकान नहीं ब्यूरोक्रेट्स देख रहे हैं। इस बैठक में मौजूद सदस्यों ने साफ तौर पर कहा कि हमें नीतीश के नेतृत्व में चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि कालिदास बोल कर चिराग के अपमान के साथ-साथ जेडीयू ने पीएम नरेंद्र मोदी का भी अपमान किया है।

बिहार की बेहतरी के लिए बोलना ही है
बैठक में चिराग ने सबकी बात बहुत धीरज के साथ सुनी। उन्होंने कहा कि हमलोगों की किसी से व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है। बिहार में जो कमियां हैं, उनको सुधारने के लिए जब भी जरूरत होगी लोजपा हमेशा बोलेगी। बिहार फस्ट बिहारी फस्ट हमारी प्राथमिकता है। इस प्राथमिकता से किसी भी कीमत पर लोजपा पीछे नहीं हटेगी।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget