बेस्ट बसों में उमड़ रही भारी भीड़

मुंबई
राज्य सरकार ने 1 सितंबर से अनलॉक 4 शुरुआत कर दी है। ऑफिस एवं कार्यालय में कर्मचारियों को 30 प्रतिशत तक आने की छूट दे दी गई, जिसका भार बेस्ट की बसों पर पड़ रहा है। बेस्ट प्रशासन ने सोशल डिस्टेनसिंग का पालन करने का निर्देश दिया है, जिसमें एक सीट पर मात्र एक यात्री बैठना बंधनकारक किया और मात्र 6 सवारी ही खड़े होकर यात्रा कर सकते है, लेकिन बेस्ट की बसों में अब यह हालात यह हो गई है कि सीट पर दो यात्री बैठने लगे हैं और बस में 25 से अधिक यात्री खड़े होकर सफर कर रहे हैं। सोशल डिस्टेनसिंग का पूरी तरह तीन तेरह हो रहा है। बस में कार्यरत कंडक्टर का कहना है कि वह टिकट दे कि दरवाजे पर खड़ा होकर यात्री रोके। कंडक्टर का कहना है कि लोग सिग्नल पर बस खड़ी होने पर चढ़ जा रहे है।
बता दें कि बेस्ट प्रशासन ने 8 जून से बेस्ट में आम नागरिकों को आवागमन की छूट दे दी। मार्च महीने से जारी लॉकडाउन के दौरान बेस्ट बसों का उपयोग सिर्फ अत्यावश्यक सेवा के लिए उपयोग किया जाता था। उस समय बेस्ट में वही सफर कर सकता था, जिसके पास आई कार्ड हो। धीरे-धीरे कोरोना महामारी के बीच शुरू हुए अनलॉक का सबसे बड़ा फायदा बेस्ट को हो रहा है, लेकिन बेस्ट के कर्मचारियों को अपनी जान हथेली पर रखकर नौकरी करनी पड़ रही है। सरकार की ओर से सिर्फ अनलॉक किया जा रहा है, लेकिन यात्रियों के आवागमन को लेकर कोई सुविधा नहीं उपलब्ध कराई जा रही है । दिल्ली में मेट्रो की शुरुआत हो जाने के बावजूद मुंबई में कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है। बेस्ट बस प्रशासन ने बसों में सोशल डिस्टेनसिंग बनी रहे, इसके लिए दो सीट पर मात्र एक यात्री बैठने की छूट दी है और बस में सिर्फ 6 यात्री खड़े होकर सफर कर सकते हैं। बेस्ट की बसों में अब ऐसी हालत हो गई है कि हर सीट पर दो यात्री बैठ रहे है और बस में लगभग 25 से 30 यात्री खड़े होकर सफर कर रहे है।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget