बेस्ट के ड्राइवर-कंडक्टरों को सिक्कों में मिला वेतन

मुंबई
मुंबई में बेस्ट के ड्राइवर्स और कंडक्टर्स मंगलवार वेतन लेने पहुंचे। अगस्त महीने का वेतन उन्हें पंद्रह दिन देरी से दिया गया। 27 बस डिपो पर दिए गए वेतन को लेने के लिए लंबी लाइनें लगी रहीं। इसका बड़ा कारण था सोशल डिस्टेंसिंग में लाइनें और दूसरा सबसे बड़ा कारण था कर्मचारियों को सिक्कों में वेतन देना। हर एक कंडक्टर और ड्राइवर को कम से कम 15000 रुपये के सिक्के वेतन में दिए गए। सुबह से वेतन लेने के लिए कंडक्टर्स और ड्राइवर्स पहुंच गए। लंबी लाइन में घंटों इंतजार के बाद उनका नंबर आया तो उन्हें वेतन में कम से कम 1500 रुपए के सिक्के दिए गए, 12000 के नोट और बाकी वेतन उनके अकाउंट में ट्रांसफर करने की बात कही गई। सिक्के मिलने के बाद ड्राइवर्स और कंडक्टर्स उन्हें खड़े होकर गिनते और संतुष्ट होकर वहां से आगे बढ़ते। इस प्रक्रिया के चलते पीछे लाइन में लगे लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ता। हालांकि वेतन में सिक्के देने के पीछे अधिकारियों ने भी अपनी मजबूरी बताई। अधिकारियों ने बताया कि कोरोना वायरस और लॉकडाउन के दौरान स्मार्ट कार्ड नहीं चले। बेस्ट में सफर करने वाले कंडक्टर्स को सिर्फ कैश देकर ही टिकट लिए। इस दौरान यात्री फुटकर रुपए और सिक्के देता है। बेस्ट के पास इतनी भारी संख्या में सिक्के आ गए हैं कि उन्हें बैंक में जमा कराना मुश्किल है। अधिकारियों ने बताया कि ज्यादा सिक्के होने पर बैंकवाले भी जमा करने में आना-कानी करते हैं। उन लोगों की मजबूरी है कि वेतन में सिक्के बांटना ही पड़ेगा। उन्होंने बताया कि बेस्ट में 36000 कर्मचारी काम करते हैं। इन 36000 में 20,000 ड्राइवर्स और कंडक्टर्स हैं।

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget