अबकी बार ब्लैक लिस्ट पाकिस्तान!


इस्लामाबाद

फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स की ब्लैक लिस्ट से बचने के लिए हाथ पांव मार रहे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को करारा झटका लगा है। एफएटीएफ से जुड़े दो विधेयकों को पाकिस्तानी संसद के उच्च सदन ने खारिज कर दिया है। इससे आतंकवाद को पाल रहे पाकिस्तान के ब्लैक लिस्ट होने का खतरा मंडराने लगा है। उधर, अपने आयरन ब्रदर को फंसता देख अब चीन भी तड़प उठा है।
चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ ला जिन ने कहा कि आतंकवाद सभी देशों के लिए एक चुनौती है और पाकिस्तान ने इसके खिलाफ लड़ते हुए बलिदान दिए हैं। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इसका सम्मान करना चाहिए। चीन सभी तरह के आतंकवाद का विरोध करता है। दरअसल, अगले महीने एफएटीएफ की बैठक होनी है। इसमें पाकिस्तान के ब्लैक लिस्ट होने पर फैसला होना है।
यूएन ने आतंकवाद को वित्तीय पोषण रोकने और मनी-लॉन्डरिंग के खिलाफ कदम उठाने को लेकर 27 बिंदुओं का ऐक्शन प्लान बनाया था। इसी के तहत इमरान सरकार कई बिल पारित करा रही है। उधर, विपक्ष ने इमरान सरकार के इस प्रयासों को जोरदार झटका दिया है। विपक्ष ने संसद के उच्च सदन में इमरान सरकार के दो विधेयकों को पारित ही नहीं होने दिया। अब जैसे-जैसे एफएटीएफ के बैठक की तारीख नजदीक आ रही है, पाकिस्तान और उसके आका चीन की धड़कनें बढ़ती जा रही हैं।
इससे पहले जून में एफएटीएफ ने भारत में आतंकी हमलों को अंजाम देने वाले संगठनों को पालने वाले पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा था। यूएन ने कहा कि लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठनों को पहुंचने वाली फंडिंग पर नकेल नहीं कस पाया है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget