महापौर के खिलाफ किरीट सोमैया का आंदोलन

एसआरए में भ्रष्टाचार और पद के दुरुपयोग का आरोप

मुंबई
महापौर किशोरी पेडणेकर पर एसआरए में भ्रष्टाचार और पद का दुरूपयोग कर अपने बेटे को कोविड सेंटर का ठेका दिलाने का आरोप लगाते हुए पूर्व भाजपा सांसद किरीट सोमैया ने उनकी इस्तीफे की मांग को लेकर सोमवार को मनपा मुख्यालय पर धरना दिया। सोमैया के साथ मनपा पार्टी नेता एवं बड़ी मात्रा में भाजपा कार्यकर्ता शामिल थे। मनपा मुख्यालय पर धरना-आंदोलन की अनुमति नहीं होने के कारण उन्हें आजाद मैदान पुलिस ने गिरफ्तार किया और कुछ घंटों बाद छोड़ भी दिया।
बता दें कि महापौर किशोरी पेडणेकर के वर्ली स्थित गणपत राव कदम मार्ग पर गोमाता जनता एसआरए परियोजना में बनी बिल्डिंग क्रमांक दो में 601 नंबर का घर मालिक को दिया गया था, लेकिन आरोप है कि पिछले 8 से 10 साल से महापौर इस घर पर अवैध रूप से कब्जा जमाए बैठी हैं। एसआरए नियमानुसार एसआरए के घरों को कोई बेच नहीं सकता। इतना ही नहीं किराए पर घर देने का प्रावधान नहीं है। इसके बावजूद महापौर कब्जा जमाए बैठी हैं। इसी तरह आरोप है कि कोरोना काल में वर्ली स्थित एनएससीआई में बने कोविड सेंटर का ठेका भी महापौर ने पद का दुरुपयोग कर बिना टेंडर किए अपने बेटे की क्रिस कंपनी को दिया। किरीट सोमैया ने आरोप लगाया कि महापौर के खिलाफ उनके द्वारा लगाए गए सभी आरोपों की जानकारी मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल को दी गई, लेकिन मनपा में शिवसेना की सत्ता होने के कारण मनपा आयुक्त किसी तरह की कार्रवाई करने से बच रहे हैं। सोमैया ने आरोप लगाया कि गोमाता नगर की बिल्डिंग क्रमांक एक में गाला नंबर चार भी महापौर ने हड़पा हुआ है।
सोमैया का आरोप है कि कोविड सेंटर का ठेका, जो उनके बेटे को दिया गया है, उसका ऑफिस इसी पते पर है। किरीट सोमैया ने धरना आंदोलन करने की कोई अनुमति नहीं ली थी, जिसके चलते आजाद मैदान पुलिस ने उन्हें मनपा मुख्यालय के बाहर ही गिरफ्तार कर लिया। एक घंटे के बाद उन्हें छोड़ा गया। उन्होंने बताया कि वे मंगलवार को बांद्रा स्थित एसआरए कार्यालय पर भी धरना आंदोलन करेंगे।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget