निजी क्षेत्र के कर्मचारी कर सकें गे लोकल में सफर

मध्य अक्टूबर तक पूर्ण क्षमता से चलेगी उपनगरीय ट्रेन: आदित्य ठाकरे

मुंबई
मुंबई उपनगर के पालक मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि मध्य अक्टूबर तक निजी दफ्तरों और मुंबई की लोकल ट्रेनों को पूर्ण क्षमता से चलाने पर विचार शुरू है।
आदित्य ठाकरे ने कहा कि निजी कार्यालय 24 घंटे शुरू रहें, ऐसा हमारा विचार है। ताकि कर्मचारियों को अलग-अजग समय पर आने की सुविधा मिल सके। अक्टूबर मध्य में पूरी क्षमता से लोकल ट्रेन चलाने पर विचार शुरू है। निजी दफ्तरों के समय में फेरबदल किया गया तो लोकल ट्रेनों में होने वाली भीड़ कम हो सकती है। एक अखबार को दिए गए साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि निजी कार्यालय धीरे-धीरे शुरू किए जा रहे हैं। ये कार्यालय 24 घंटे शुरू करने के लिए सरकार संबंधित कंपनियों से बातचीत कर रही है। इतना ही नहीं, जल्द ही रेस्टारेंट शुरू करने पर भी विचार किया जा रहा है। हम धीरे-धीरे चीजें शुरू कर रहे हैं।

सभी के लिए यात्रा का फॉर्मूला निकाले सरकार: हाईकोर्ट
इधर बंबई उच्च न्यायालय ने मंगलवार को महाराष्ट्र सरकार से कहा कि वह कोई ऐसा रास्ता निकाले, ताकि आम लोग भी मुंबई में सार्वजनिक परिवहन का उपयोग कर सकें, क्योंकि लोगों की नौकरियां जा रही हैं। महाराष्ट्र और गोवा बार काउंसिल द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने सरकार से एक सप्ताह के भीतर जवाब देने को कहा है। बार काउंसिल ने अर्जी में अनुरोध किया है कि महाराष्ट्र के सभी वकीलों को मुंबई की लोकल ट्रेनों में यात्रा करने की अनुमति दी जाए। मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जीएस कुलकर्णी की पीठ ने वकीलों द्वारा दायर एक अन्य अर्जी पर भी सरकार से जवाब मांगा है। उसमें अनुरोध किया गया है कि राज्य की उपभोक्ता अदालतों को सामान्य या ऑनलाइन, किसी भी तरीके से मुकदमों की सुनवाई करने की अनुमति दी जाए। पीठ ने कहा कि राज्य को ऐसा रास्ता निकालना होगा, जिससे सामान्य लोग भी मुंबई में सार्वजनिक परिवहन का उपयोग कर सकें। पीठ ने कहा कि सिर्फ वकीलों को अनुमति देना, हमारी ओर से पक्षपात जैसा लगेगा। दूसरे सेक्टर के लोगों को भी अनुमति क्यों ना दें? हम सिर्फ वकीलों के बारे में नहीं सोच सकते हैं। उन्होंने कहा कि लोग भूखे हैं, उनकी नौकरियां जा रही हैं। दफ्तर के जनरल मैनेजर कचरा उठाने वाले वाहन चला रहे हैं। कोई सब्जी बेच रहा है (महामारी के कारण)। कई लोग अपनी नौकरियों में वापस लौटेंगे। आपको अपना फॉर्मूला तय करना होगा।

कल्याण, वसई-विरार के लोग ज्यादा परेशान
सर्व सामान्य लोगों को लोकल ट्रेनों में सफर की अनुमति नहीं मिलने से ठाणे, डोंबिवली, कल्याण, विरार, पालघर के नौकरी करने वाले लोगों को बहुत मुश्किल हो रही है। मुंबई आने में कई घंटे लगने से उनके पसीने छूट रहे हैं। बसों की कम संख्या होने से काफी दिक्कत हो रही है। फिलहाल ये कर्मचारी निजी बसों, पूल कार, एसटी बसों से सफर कर रहे हैं। सरकार ने निजी कार्यालयों में 30 फीसदी कर्मचारियों की उपस्थिति की अनुमति दी है, लेकिन निजी क्षेत्र के कर्मचारियों को लोकल ट्रेन में यात्रा की सुविधा नहीं है, इस वजह से कर्मचारी वर्ग को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget