स्वास्थ्य मंत्री का हर्ड इम्यूनिटी से इंकार

नई दिल्ली
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि आईसीएमआर के दूसरे सीरो सर्वे में दिखाया गया है कि भारत की जनसंख्या अब भी कोविड-19 के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी डेवलप कर पाने से बहुत दूर है । ऐसे में, हम सभी को कोविड से जुड़े उपयुक्त व्यवहार का पालन करते रहना चाहिए. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी कहा कि कोविड-19 से फिर से संक्रमित होने वाले लोगों पर आईसीएमआर तेजी से जांच और रिसर्च कर रहा है । हालांकि अब तक सामने आये पुनर्संक्रमण के मामले बहुत ही कम हैं, लेकिन सरकार मामले को पूरा महत्व दे रही है ।
केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि रेमडेसिवीर और प्लाज्मा थेरेपी को बढ़ावा नहीं दिया जाना है. सरकार ने उनके तर्कसंगत उपयोग के संबंध में नियमित सलाह जारी की है. निजी अस्पतालों को भी इन जांच उपचारों के नियमित उपयोग के खिलाफ सलाह दी गई है।

देश में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 50 लाख के करीब
देश में गत 24 घंटे में कोविड-19 से 92,043 मरीजों के ठीक होने के साथ ही भारत में इस महमारी को मात देने वालों की संख्या 50 लाख के करीब पहुंच गई है । केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को बताया कि इसके साथ ही उपचाराधीन मरीजों के मुकाबले ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 39,85,225 अधिक है । गत कुछ दिनों से रोजाना ठीक होने वाले मरीजों की औसत संख्या 90 हजार से अधिक है. इस तथ्य को रेखांकित करते हुए मंत्रालय ने कहा, रोजाना मरीजों के ठीक होने की दर से भारत का वैश्विक स्तर पर सबसे अधिक मरीजों के ठीक होने का दर्जा बना हुआ है।

रेमेडिसविर और प्लाज्मा थेरेपी के लिए जारी की एडवाजरी
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बताया कि रेमेडिसविर और प्लाज्मा थेरेपी को प्रोत्साहित नहीं किया जाना है। सरकार ने उनके उपयोग के संबंध में एडवाइजरी जारी की है। इसके अलावा प्राइवेट अस्पतालों को भी इन जांच उपचारों के नियमित उपयोग के खिलाफ सलाह दी गई है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget