लॉकडाउन में शराब ब्रिकी से रिकॉर्ड कमाई

तिजोरी में जमा हुए 3842 करोड़ रुपए

Liquor
मुंबई
वैश्विक महामारी कोरोना संकट से सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र सरकार की शराब की बिक्री से रिकार्ड कमाई हुई है। कोरोना संकट ने सरकार की तिजोरी पर विपरीत असर डाला है, लेकिन लॉकडाउन के दौरान हुई शराब की बिक्री से सरकार की तिजोरी में 3842.32 करोड़ रुपए जमा हुए हैं। इससे सरकार के राजस्व में काफी इजाफा हुआ है। राज्य उत्पादन शुल्क आयुक्त कांतीलाल उमप ने बताया कि कोरोना संकट के कारण शराब की दुकानें बंद थी, लेकिन 3 मई 2020 से शराब बिक्री की अनुमति प्रदान कर दी गई थी। उसके बाद 15 मई से होम डिलीवरी की अनुमति दी गई। धीरे-धीरे शराब की दुकानों को भी खोल दिया गया। राज्य उत्पादन शुल्क विभाग ने साल 2020-21 में 19 हजार 225 करोड़ रुपए के राजस्व का लक्ष्य रखा है। अप्रैल से अगस्त के बीच यानी पांच महीनों में उत्पाद शुल्क विभाग को शराब की बिक्री से 3842.32 करोड़ रुपए मिले हैं, जो कि पिछले साल की तुलना में 37 फीसदी कम है। आबकारी विभाग के अनुसार पिछले पांच महीने में देशी शराब की 9.40 करोड़ लीटर, विदेशी शराब 5.88 करोड़ लीटर, बियर 5.23 करोड़ लीटर व वाइन 17.62 लाख लीटर बिकी है। हालांकि यह आंकड़ा पिछले साल की तुलना में कम है। गत वर्ष की तुलना में इस बार देशी शराब में 38 फीसदी, विदेशी शराब 33 फीसदी, बीयर में 63 फीसदी व वाइन में 39 फीसदी की कमी आई है। गौरतलब है कि कोरोना प्रकोप के चलते उद्योग धंधे पूरी तरह से बंद थे। सरकार की तिजोरी खाली पड़ी थी। राज्य उत्पादन शुल्क विभाग के अनुसार 01 अप्रैल से 18 सितंबर 2020 के बीच शराब के सेवन के लाइसेंस के लिए 1,56,085 लोगों ने ऑनलाइन आवेदन किया। इसमें से 1,50,955 आवेदनों को मंजूरी दी गई। इसके साथ ही नियमों के उल्लंघन को लेकर 01 अप्रैल से 21 सितंबर 2020 के बीच 18587 मामले दर्ज किए गए। जबकि 10 हजार 109 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इस बीच 1718 वाहन व 42.76 करोड़ रुपए की शराब जब्त की गई।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget