काम ढूंढने के लिए संघर्ष कर रहे प्रवासी मजदूर

मुंबई
कोरोनो संकट के बीच मुंबई से बड़े पैमाने पर प्रवासी श्रमिकों ने पलायन किया था। मुंबई के जुहू कोलीवाड़ा के भय्यावाड़ी में लगभग 90 प्रतिशत प्रवासी मजदूर रहते हैं। लॉकडाउन के चलते यहां से मई में लगभग 80 प्रतिशत निवासियों ने पलायन किया था। जिसके बाद ये जगह खाली गलियों और भयानक सन्नाटे से भर गई थी, लेकिन पिछले डेढ़ महीने से यहां हलचल लौटी है। हालांकि यहां के प्रवासियों के लिए जीवन अभी तक सामान्य नहीं हुआ है। बिहार के रहने वाले पंकज लॉकडाउन में एक ट्रक पर सवार होकर जैसे-तैसे अपने गांव पहुंच गए थे। वे मुंबई में कुक का काम करते थे और महीने में लगभग 17,000 रुपए कमाते थे, हालांकि, बिहार में बाढ़ का आना उनके लिए दोहरी मार थी, जिसके चलते उनके खेत के साथ-साथ उनका घर बह गया। वह मुंबई लौटे और अब मजदूरी करने के लिए मजबूर हैं। पंकज कहते हैं कि मेरे मालिक ने कोरोना वायरस के कारण मुझे काम देने से मना कर दिया। यहां तक कि वेतन भी कम था, इसलिए अब मैं मजदूरी कर रहा हूं। पंकज जैसे कई लोगों के पास बताने के लिए एक जैसी कहानी है। बिहार के दरभंगा के रहने वाले कैलाश मंडल घर चलाने लिए संघर्ष कर रहे हैं। वह पांच लोगों के परिवार के लिए एकमात्र कमाने वाले हैं। एक ड्राइवर के रूप में काम करते हुए, वह एक महीने में 18,000 रुपए कमाते थे, लेकिन अब वह कहते है कि काम लगभग आधे से कम हो गया है, जिसका अर्थ है कि उनकी कमाई भी आधी से कम हो गई है। मंडल ने कहा कि मैं अपने गांव में कुछ करने की सोचता हूं, लेकिन मैं वहां क्या कर सकता हूं? व्यवस्था ठीक नहीं है, इसलिए वापस आना पड़ा। हां, मुझे कोरोनो वायरस से डर लगता है, लेकिन अब पैसे के लिए संघर्ष करना पड़ता है। मजदूर कृष्णा कहते हैं कि लंबे समय तक अपने गांव में रहना आर्थिक स्थिति के कारण एक विकल्प नहीं था और वह वापस भी आ गए।
Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget