बौखलाए चीन ने बढ़ाई सेना, भारत ने चक्रव्यूह में घेरा

Military Trucks

नई दिल्ली

लद्दाख में जारी तनाव को सुलझाने के लिए लगातार पांचवें दिन शुक्रवार को भारत और चीन के सैन्य अफसरों के बीच बातचीत हुई। यह मीटिंग करीब 4 घंटे तक चली और बताया जा रहा है कि इसमें भी कोई खास नतीजा नहीं निकला है। बैठक उसी जगह पर हुई है, जहां दोनों देशों के सैनिक एक-दूसरे से कुछ ही मीटर की दूरी पर हैं।
दिल्ली में भी शुक्रवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के अलावा सेना प्रमुखों से भी मिले। बैठक के दौरान लद्दाख के हालात पर चर्चा हुई।
सीमा पर बैठकें 7 सितंबर से जारी हैं। एक सैन्य अधिकारी ने कहा कि बातचीत से इस समस्या का हल निकलेगा, लेकिन यह लंबी प्रक्रिया है। बैठकों का दौर तब शुरू हुआ, जब चीन ने भारतीय इलाके पर कब्जे की कोशिश की थी। लेकिन, भारतीय सेना ने इस कोशिश को नाकाम कर दिया था।
चीन की इस हरकत के बाद ही भारतीय सेना ने चुशुल के करीब रेजांग ला, लीचेन ला, ब्लैक टॉप, गोस्वामी हिल और अन्य अहम चोटियों पर कब्जा कर लिया था।
पैंगॉन्ग के उत्तरी इलाके में फिंगर 4 से फिंगर 8 तक चीन के सैनिक कई चोटियों पर मौजूद हैं। पहले यहां चीन हावी था। अब फिंगर 4 की ऊंचाई वाली अहम चोटियों पर भारतीय सेना का कब्जा है।
लद्दाख में जारी तनाव के बीच चीन एक तरफ शांति की बात कर रहा है तो दूसरी तरफ सेना की तैनाती भी बढ़ा रहा है। चीनी सेना भारत के साथ इन दिनों दिन-प्रतिदिन बढ़ते तनाव के बीच तिब्बत में बड़े पैमाने पर युद्धाभ्यास कर रही है। चीनी सेना के एलीट कमांडो टीम ने ऑर्ड पैराशूट ड्रिल में हिस्सा लिया। इसमें शामिल जवानों ने समुद्र तल से 4000 मीटर की ऊंचाई पर जहाज से पैरा जंपिंग की।
चीन की सरकारी मीडिया सीसीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, तिब्बत मिलिट्री एरिया कमांड के एक विशेष ऑपरेशन ब्रिगेड और ऑर्मी एविएशन ब्रिगेड ने मिलकर स्पेशल पैरा कमांडो टीम को हाई एल्टीट्यूड से जंप करने की ट्रेनिंग दी। इस रिपोर्ट में ट्रेनिंग की जगह का खुलासा नहीं किया गया है। इस अभियान में अबतक 300 सैनिकों को ट्रेनिंग दी गई है।
अभी भी सीमा पर दोनों देशों के सैनिक एक दूसरे के कुछ सौ मीटर पर मोर्चा संभाले हुए हैं। इससे साफ है कि पूर्वी लद्दाख में जारी सैन्य तनाव जल्द खत्म नहीं होने जा रहा है। यही नहीं, विदेश मंत्रियों के बीच बातचीत के बाद जिन पांच सूत्रीय एजेंडे को जारी किया गया है उस तरह का प्रपत्र पहले भी कई बार जारी कर चुके हैं। बताया जाता है कि चीन मई 2020 से पहले वाली स्थिति बहाल करने को तैयार नहीं है। वहीं भारत का कहना है कि उसको इससे कम कुछ भी मंजूर नहीं है। ऐसी स्थिति में भारत की तरफ से भी एलएसी पर सैनिकों एवं हथियारों का जमावड़ा किया गया है। इधर दूसरी तरफ चीन को घेरने लिए भारत ने कई देशों को एकजुट कर लिया है। भारत की मोर्चा बंदी को देखकर चीन के सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स की तरफ से बार-बार भारत को युद्ध की धमकी दी जा रही है।

आज पांचों भारतीयों को लौटाएगा चीन
अरुणाचल प्रदेश के अपर सुबानसिरी जिले से पांच युवक गलती से चीन की सीमा में चले गए। हालांकि अब राहत भरी खबर यह है कि शनिवार यानी 12 सितंबर को चीनी सेना इन पांच युवकों को भारत के हवाले करेगी। केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने इसकी जानकारी दी है।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget