151 वीं गांधी जयंती पर पीएम मोदी का आह्वान

हर स्कूल में पहुंचे स्वच्छ जल

2024 तक जल जीवन मिशन के तहत देश के हर घर में नल का पानी पहुंचाने का बीड़ा मोदी सरकार उठाया है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती, 2 अक्टूबर को केंद्रीय जलशक्ति मंत्रालय ने देशभर के गांवों के सभी स्कूलों, आंगनवाड़ी केंद्रों और गांव के सार्वजनिक स्थलों में स्वच्छ पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए 100 दिन के अभियान की शुरुआत की है। इस सुविधा को जारी रखने और उसके रखरखाव की पूरी जिम्मेदारी ग्राम पंचायतों की होगी या फिर उनकी उपसमिति यानि पानी समिति की। सरकार ने अपील की है कि इस अभियान में गांव के स्तर तक महिलाओं को इस मिशन में हिस्सेदार बनाया जाए।
केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने देश के सभी सभी मुख्यमंत्रियों और उप
राज्यपालों को पत्र लिख कर अपील की है कि वे अपने राज्य और केंद्र शासित प्रदेश में इस 100 दिनों के अभियान का नेतृत्व करें और इसे जन आंदोलन बनाएं। शेखावत ने लिखा है कि जल जीवन मिशन का लक्ष्य महिलाओं और बच्चों पर विशेष ध्यान देने के साथ साथ हर घर में पानी की आपूर्ति करना भी है। खासकर बच्चों के लिए स्वच्छ जल सुनिश्चित करना भी इस मिशन की प्राथमिकता है, क्योंकि वे पानी से पैदा हुई बीमारियों जैसे टाइफाइड, दस्त, हैजा के लिए अति संवेदनशील होते हैं।
दरअसल ये अभियान देश के हर बच्चे के समग्र विकास को सुनिश्चित कर उनके चेहरे पर मुस्कान लाने का एक अवसर है जिसका सपना पीएम मोदी ने देखा है। सरकार जानती है कि कई क्षेत्रों में स्थितियां बहुत अधिक जटिल हैं, जहां आर्सेनिक, फ्लोराइड और अन्य भारी धातुओं आदि से जल स्रोत दूषित पाए जाते हैं। लंबे समय तक दूषित पानी पीने से आर्सेनिकोसिस, फ्लोरोसिस जैसी बीमारियां हो सकती हैं, जिससे स्वास्थ्य संबंधी गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती हैं। इन गंभीर परेशानियों से निपटने के लिए हर ग्राम पंचायत के तहत आने वाले स्कूल, आंगनवाड़ी केंद्र, स्वास्थ्य सेवा केंद्र आदि में नल के पानी के कनेक्शन के माध्यम से स्वच्छ जल सुनिश्चित करने के लिए जल जीवन मिशन के तहत प्रावधान किए गए हैं।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget