पूर्व-वर्तमान सैनिकों के बच्चों को 5 फीसदी आरक्षण

अधिकतम पांच सीटों की शर्त खत्म 

 

Uday Samant

मुंबई 

उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग के अधिकार क्षेत्र में आने वाले सभी कॉलेजों में डिप्लोमा और पेशेवर डिग्री पाठम्यक्रमों में राज्य के पूर्व और वर्तमान सैनिकों के बच्चों के लिए 5 प्रतिशत सीटें आरक्षित होगी। इसके पहले की अधिकतम 5 सीटों की शर्त को रद्द कर दिया गया है। इस बात की जानकारी उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने दी। सामंत ने कहा कि केंद्रीयकृत प्रवेश प्रक्रिया में शामिल प्रत्येक पाठम्यक्रम के लिए 5 प्रतिशत समानांतर आरक्षण निर्धारित किया गया है और इस प्रवेश के लिए प्रत्येक संस्थान में अधिकतम 5 सीटों की मौजूदा स्थिति को वर्तमान शैक्षणिक वर्ष से समाप्त किया जा रहा है। 

 विशेष परीक्षा का आयोजन 

उन्होंने कहा कि एमएचटी-सीईटी 2020 ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा के लिए जिन छात्रों ने प्रवेश पत्र डाउनलोड किए थे, लेकिन वे कोविड-19 के प्रकोप और अत्यधिक बारिश के कारण परीक्षा नहीं दे सके, ऐसे छात्रों के लिए विशेष परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। साथ ही प्रवेश पंजीकरण की समय सीमा 26 अक्टूबर को दोपहर 12.00 बजे तक बढ़ा दी गई है। विभाग को अगले 15 दिनों में इन उम्मीदवारों की परीक्षा आयोजित करने का भी निर्देश दिया गया है। 

 सभी परीक्षा दिवाली के पहले 

 सामंत ने कहा कि कुछ स्थानों पर विश्वविद्यालयों को ऑनलाइन परीक्षा में समस्या हुई है। इस बारे में जांच कर संबंधित संस्थान के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए चार सदस्यीय सत्य शोधन समिति का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि जो विश्वविद्यालय 31 अक्टूबर तक अपनी परीक्षा देने में सक्षम नहीं हैं, वे विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, राज्यपाल और राज्य शासन को रिपोर्ट दे। साथ ही, वे सभी छात्र जिनकी परीक्षाएं बाकी हैं अथवा वे अन्य कारणों की वजह से परीक्षा में उपस्थित नहीं हो सके। ऐसे सभी छात्रों की परीक्षा दीपावली के पहले आयोजित की जाए। सामंत ने कहा कि किसी भी छात्र की मार्कशीट पर कोविड-19 का उल्लेख नहीं किया जाएगा। छात्रों को हर साल की तरह उनके डिग्री प्रमाणपत्र दिए जाएंगे। 


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget