मोदी का विरोधियों पर हल्लाबोल

न 370 की वापसी होगी और न ही बदलेंगे कृषि कानून


भागलपुर,गया,सासाराम 

बिहार की धरती से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विरोधियों को एक कड़ा संदेश देते हुए साफ कहा कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद- 370 समाप्त करने और कृषि संबंधी तीन कानूनों के फैसलों पर देश पीछे नहीं हटेगा। बिहार में अपनी पहली चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अनुच्छेद 370 और कृषि संबंधी तीन नए कानूनों पर कांग्रेस सहित विपक्ष के रुख की कड़ी आलोचना की। पीएम ने कहा कि देश अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा। मोदी ने आरोप लगाया कि विरोधी दल जब किसानों के लिए कुछ कर नहीं पाए तो अब किसानों से लगातार झूठ बोलने में जुट गए हैं और आज कल ये लोग न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को लेकर अफवाहें फैला रहे हैं, जबकि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार ने ही एमएसपी बढ़ाने की कार्रवाई की है। 

मोदी ने पूछा- जब इनकी सरकार थी तब एमएसपी पर फैसला क्यों नहीं लिया? 

भागलपुर में पीएम मोदी ने कहा कि ये एनडीए की ही सरकार है, जिसने किसानों को लागत का डेढ़ गुना एमएसपी देने की सिफारिश लागू की थी। ये एनडीए की ही सरकार है, जिसने सरकारी खरीद केंद्र बनाने और सरकारी खरीद, दोनों पर बहुत जोर दिया है। पीएम ने कहा कि क्यों इन लोगों के समय में किसानों से इतना कम अनाज खरीदा जाता था? क्यों इन लोगों ने किसानों की, बिहार के किसानों की परवाह नहीं की। 


राष्ट्रहित में कोई भी, कुछ भी फैसला ले, ये लोग विरोध में हैं 

पीएम ने कहा कि एनडीए के विरोध में आज जो लोग खड़े हैं, वो देशहित के हर फैसले का विरोध कर रहे हैं। जम्मू कश्मीर से धारा-370 हटाने का फैसला हो, ये लोग विरोध में हैं। तीन तलाक के विरुद्ध कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं को नए अधिकार देना हो, ये लोग विरोध में हैं। भारत की जांबाज सेना आतंकियों पर कोई कार्रवाई करे, सरहद पर तिरंगे की शान बढ़ाए, ये लोग विरोध में हैं। सुप्रीम कोर्ट अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने को कहे, ये लोग विरोध में हैं। राष्ट्रहित में कोई भी, कुछ भी फैसला ले, ये लोग विरोध में हैं। 

'आज भी बिहार की अनेक समस्याओं की जड़ में 90 के दशक की अव्यवस्था' 

इससे पहले गया में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 90 के दशक में बिहार के लोगों का अहित किया गया। बिहार को अराजकता और अव्यवस्था के किस दलदल में धकेल दिया ये आप में से अधिकांश ने अनुभव किया है। आज भी बिहार की अनेक समस्याओं की जड़ में 90 के दशक की अव्यवस्था और कुशासन है। ये वो दौर था जब लोग कोई गाड़ी नहीं खरीदते थे, ताकि एक राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ताओं को उनकी कमाई का पता न चल जाए। 

ये वो दौर था जब एक शहर से दूसरे शहर में जाते वक्त ये पक्का नहीं रहता था कि उसी शहर पहुंचेंगे या बीच में किडनैप हो जाएंगे। 

पीएम मोदी ने कहा कि ये वो दौर था जब बिजली संपन्न परिवारों के घर में होती थी, गरीब का घर दीए और ढिबरी के भरोसे रहता था। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget