आखिरकार महाराष्ट्र लोक सेवा आयोग की परीक्षा स्थगित

मराठा समाज के विरोध के बाद सरकार का फैसला

MPSC

मुंबई

मराठा समाज के विरोध के बाद महाराष्ट्र लोकसेवा आयोग (एमपीएससी) की परीक्षा को सरकार ने स्थगित कर दिया है। शुक्रवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक यह निर्णय लिया गया। राज्य में 11 अक्टूबर को होने वाली इस परीक्षा में 2 लाख 60 हजार छात्र बैठने वाले थे। मराठा समूहों की मांग थी कि ये परीक्षाएं तब तक आयोजित नहीं की जानी चाहिए, जब तक सरकारी नौकरियों में मराठा समुदाय के उम्मीदवारों को आरक्षण देने को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हो जाती। मराठा प्रदर्शनकारियों के आक्रामक रुख अपनाने के बाद इस मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए सरकार ने परीक्षा को स्थगित करने का निर्णय लिया। शुक्रवार को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक आयोजित की गई, जिसमें सर्वसम्मति से परीक्षा को स्थगित करने का निर्णय लिया गया। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि छात्रों को अध्ययन का अधिक समय मिल सके, इस वजह से परीक्षा को स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि परीक्षा कब होगी, इस पर फैसला जल्द ही लिया जाएगा। उन्होंने कहा था कि मराठा समाज शांत है, लेकिन समय आने पर आक्रामक हो सकता है। मराठा आरक्षण के मामले में संभाजी राजे ने बयान दिया था कि अगर समय मिलता है, तो हम भी तलवार खींच सकते हैं। संभाजी राजे ने यह भी मांग की थी कि मराठा समुदाय के छात्रों के लाभ के लिए परीक्षा स्थगित कर दी जाए। जिसके बाद राज्य सरकार ने 11 अक्टूबर को होने वाली परीक्षा को स्थगित कर दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि परीक्षा में भाग लेने वाले 2 लाख से अधिक छात्रों के लिए यह महत्वपूर्ण खबर है। हमने एमपीएससी परीक्षा की तारीख को टाल दिया है, लेकिन अगली परीक्षा की तारीख अभी तय नहीं है। उन्होंने कहा कि मराठा समाज ने भी हमसे परीक्षा स्थगित करने का अनुरोध किया था।

महाराष्ट्र बंद आंदोलन वापस
मराठा समाज ने शनिवार 10 अक्टूबर को आयोजित महाराष्ट्र बंद आंदोलन को वापस ले लिया है। मराठा आरक्षण को सुप्रीम कोर्ट द्वारा स्टे दिए जाने के निर्णय का विरोध करते हुए मराठा समाज ने 10 अक्टूबर को महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया था, जिसे अब वापस ले लिया है, क्योंकि सरकार ने उनकी अनेक मांगें मान ली है। यह जानकारी मराठा सकल महासंघ के अध्यक्ष सुरेश पाटिल ने दी। सुरेश पाटिल के साथ मराठा समाज के प्रतिनिधियों ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उप मुख्यमंत्री अजित पवार के साथ बैठक में चर्चा की। इस बैठक में समाज की अनेक मांगें सरकार द्वारा मान लिए जाने के बाद आंदोलन वापस लेने की घोषणा सुरेश पाटिल ने की। गुरुवार देर रात सह्याद्रि अतिथि गृह में मराठा समाज के प्रतिनिधियों के साथ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने बैठक की। इसमें मंत्री अशोक चव्हाण, अनिल परब, विजय वडेवट्टीवार भी उपस्थित थे। इसके बाद सुरेश पाटिल ने कहा कि देर रात हमारी सरकार के साथ बैठक हुई और सरकार ने मराठा समाज की अनेक मांग मान ली है, इसलिए शनिवार 10 अक्टूबर का महाराष्ट्र बंद आंदोलन वापस ले लिया गया है।


Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget