बढ़ती उम्र में रखें आंखों का ध्यान

Eyecare
जैसे-जैसे व्यक्ति की उम्र बढ़ने लगती है, वैसे-वैसे उसकी सेहत में गिरावट आने लगती है और कई तरह की बीमारियां व्यक्ति को घेर लेती हैं। इन्हीं में से एक दृष्टि संबंधित बीमारियां भी हैं। मोतियाबिंद,एज रिलेटेड मैक्यूलर डीजेनेरेशन और ग्लॉकोमा- ये आंख से जुड़ी कुछ ऐसी बीमारियां हैं जिनका संबंध बढ़ती उम्र से है और अगर समय रहते इनका सही इलाज न हो तो बुजुर्गों की न सिर्फ दृष्टि बाधित हो जाती है, बल्कि अंधेपन का खतरा भी हो सकता है। इसके अलावा डायबिटीज, हाई बीपी और हृदय रोग जैसी बीमारियां भी बुजुर्गों में दृष्टि संबंधित बीमारियों का कारण बनती हैं।

बढ़ती उम्र में ज्यादातर लोगों को चश्मा पहनने की जरूरत महसूस होने लगती है। लिहाजा नियमित रूप से आंखों की जांच करवाने के साथ ही हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाना और पोषण से भरपूर हेल्दी चीजों का सेवन करना भी जरूरी है, ताकि लंबे समय तक आंखों की सेहत बनी रहे और दृष्टि संबंधित बीमारियों को होने से रोका जा सके। अपनी आंखों का ख्याल रखने के लिए आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, इस बारे में हम आपको यहां बता रहे हैं-

नियमित रूप से आई टेस्ट करवाएं
नेत्र रोग विशेषज्ञ द्वारा साल में एक बार आंखों की जांच करवाना बेहद महत्वपूर्ण है। यह न केवल इसलिए जरूरी है क्योंकि ऐसा करने से मोतियाबिंद, एएमडी और ग्लॉकोमा जैसी बीमारियों के बारे में शुरुआती चरण में ही पता चल जाता है, बल्कि, डायबिटीज और हाई बीपी जैसी प्रणालीगत स्थितियों की पहचान करने में भी मदद मिल सकती है।

डॉक्टर द्वारा प्रिस्क्राइब चश्मे को पहनें
अधिकांश वरिष्ठ नागरिकों को दूर और पास दोनों ही तरह के दृष्टि दोष होते हैं जिस कारण उन्हें चश्मा पहनने की आवश्यकता होती है। अगर नेत्र रोग विशेषज्ञ ने आपको कोई चश्मा प्रिस्क्राइब किया हो तो उसे नियमित रूप से जरूर पहनें। ऐसा करने से न सिर्फ बेहतर दृष्टि सुनिश्चित होती है, बल्कि आंखों से ठीक तरह से न दिखने के कारण गिरने या दुर्घटनाएं होने का खतरा भी कम हो जाता है।

आंखों के लिए सुरक्षात्मक चश्मे
सूर्य की हानिकारक यूवी किरणों से बुजुर्गों की आंखों को बचाना भी बेहद जरूरी है।
इसके लिए आप चाहें तो धूप के चश्मे (सनग्लासेज) का इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर यूवी प्रोटेक्ट कोटिंग वाले प्रिस्क्रिप्शन ग्लासेज पहन सकते हैं। साथ ही आप चाहें तो हैट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं ताकि आंखों को सुरक्षित रखा जा सके।

स्वस्थ खानपान और हेल्दी लाइफ स्टाइल

हेल्दी डाइट में हरी पत्तेदार सब्जियां, साबुत अनाज और ढेर सारे फल और सब्जियां शामिल होती हैं जो न केवल आपकी आंखों को, बल्कि पूरे शरीर को जरूरी पोषक तत्व प्रदान करने में मदद करते हैं। स्वस्थ आहार के साथ ही सामान्य शारीरिक स्वास्थ्य बनाए रखने और बीमारी को दूर करने के लिए एक्सरसाइज करना भी जरूरी है। शरीर के बाकी हिस्सों की ही तरह आंखों में भी ब्लड सर्कुलेशन बेहतर बना रहे इसके लिए नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए। इसके लिए अपनी हथेलियों को आपस में रगड़ें और फिर उसे कुछ मिनटों के लिए अपनी आंखों पर रखें लेकिन किसी तरह का प्रेशर न बनाएं, इसके अलावा आप चाहें तो कम से कम 10 से 15 बार अपनी पलकें झपकाएं, दूर और पास की चीजों पर फोकस करें।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget