सिजेरियन डिलीवरी के बाद बढ़े पेट को कम करने के तरीके

pregnancy

किसी भी महिला के लिए मां बनना एक खूबसूरत एहसास है, लेकिन इस एहसास के साथ नई मांओं को कुछ परेशानियों का भी सामना करना पड़ता है। सी-सेक्शन यानी सिजेरियन डिलीवरी के बाद पेट बढ़ना या पेट लटकना एक आम समस्या है और यह समस्या नई मांओं के लिए तनाव का कारण भी बन जाती है। डिलीवरी के बाद तुरंत वजन तो कम नहीं हो सकता है, लेकिन अगर प्रभावी और सुरक्षित उपाय अपनाए जाएं तो पेट पहले जैसा हो सकता है। 

शिशु को स्तनपान कराएं : अगर महिला स्तनपान कराती है तो उन मांओं की तुलना में तेजी से वजन घटाती हैं जो नहीं कराती हैं। जब स्तनपान कराते हैं तो शरीर को यह करने के लिए कैलोरी बर्न करनी होती हैं। इसमें काफी ऊर्जा लगती है और शरीर को दूध पैदा करने में मेहनत करनी होती है। स्तनपान कराने वाली मांए औसतन रोजाना 250 से 500 कैलोरी बर्न करती हैं। यह आंकड़े मां के वजन और वह कितना स्तनपान कराती हैं उस पर निर्भर करता है। 

योगासन करें : हैवी वर्कआउट की बजाए सी-सेक्शन के बाद योग अपनाएं। वैसे यह बच्चा होने के 6 से 8 सप्ताह बाद ही शुरू करना चाहिए। डॉक्टर की सलाह पर योग शुरू कर सकते हैं। इससे मांसपेशियां मजबूत होंगी और ढीली मांसपेशियों को फिर से बनाने में मदद मिलेगी। प्राणायाम से भी फायदा होगा। 

एब्डोमिनल बेल्ट लगाएं : प्रसव के बाद शुरुआती महीनों में पेट की चर्बी कम करने में और इसे लटकने से बचाने में एब्डोमिनल बेल्ट बड़ी कारगर हो सकती हैं। यूं तो बेल्ट को हर समय लगा सकते हैं, लेकिन सोते समय, खाते समय और शौच जाते समय न लगाएं। प्रसव के दो महीने बाद टांके ठीक दिखने पर बेल्ट या कपड़ा बांध सकते हैं। 

मसाज से फायदा : डिलीवरी के बाद पेट अंदर करने के लिए मसाज करवाएं। लेकिन सिजेरियन के दो सप्ताह बाद शुरू करवाना चाहिए, उससे पहले नहीं। मसाज से मांसपेशियों को टोन करने में मदद मिलती है और पेट का साइज भी कम होता है। 

खूब पानी पिएं : पेट की चर्बी कम करने के लिए पर्याप्त पानी पीना जरूरी है। यह शरीर में तरल पदार्थ के संतुलन को बनाने के साथ कमर के आसपास बढ़ रहे फैट को भी बर्न करेगा। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget