इमरान को पीएम बनाने के लिए सेना ने कराई थी धांधली

 


इस्लमाबाद 

पाकिस्तान में इमरान खान सरकार की कुर्सी पर खतरे में नजर आ रही है। दरअसल पाक का पूरा विपक्ष इमरान सरकार और सेना की ज्यादातियों के खिलाफ एकजुट हो गया है। इमरान खान को सत्ता में लाने के लिए 2018 के चुनाव में हुए फर्जीवाड़े पर पाकिस्तान की दोनों प्रमुख विपक्षी दल पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी और पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज ने पाकिस्तानी सेना के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। विपक्ष के आरोपों पर पलटवार करते हुए पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने कहा है कि सेना की सभी कार्रवाई संविधान से निर्देशित और राष्ट्र हित में थीं। बाजवा ने शनिवार को कहा कि सेना की सभी कार्रवाई संविधान से निर्देशित और राष्ट्र हित में थीं। पाकिस्तान सैन्य अकादमी काकुल में जवानों की पासिंग आउट परेड को संबोधित करते हुए जनरल बाजवा ने कहा कि सेना सरकार का समर्थन जारी रखेगी और हमारे लोकतांत्रिक मूल्यों की रक्षा करेगी। पाकिस्तान के अस्तित्व में आने के 70 सालों में से आधे समय से ज्यादा वहां शक्तिशाली सेना का शासन रहा है और सुरक्षा और विदेश नीति से जुड़े मामलों में उसे काफी अहमियत हासिल है। बाजवा के इस बयान को एक तरह से कबूलनामा माना जा रहा है कि इमरान खान को पीएम बनाने के लिए सेना ने चुनाव में धांधली कराई थी। पाकिस्तान के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है कि वहां के दो प्रमुख विपक्षी दल खुलकर सेना के खिलाफ बोल रहे हैं। इससे पहले राजनीतिक नेता परोक्ष रूप से सैन्य प्रतिष्ठान के देश के राजनीतिक मामलों में दखल की ओर इशारा करते थे। पाकिस्तानी सेना पर पहला हमला पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज के प्रमुख और पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने किया था। नवाज शरीफ ने सेना पर प्रधानमंत्री इमरान खान को सत्ता में लाने के लिए वर्ष 2018 के आम चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वर्दी पहन कर राजनीति में हस्तक्षेप देश के संविधान के तहत देशद्रोह के बराबर है। उनके आरोपों से तिलमिलाए इमरान खान ने कहा कि वे सेना और आईएसआई का अपमान कर बहुत खतरनाक खेल खेल रहे हैं। उन्होंने चुनाव में धांधली के आरोपों को आधारहरीन करार देते हुए खारिज कर दिया था। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget