नौकरी छोड़ने के साथ ना निकालें पीएफ

EPF
नई दिल्ली 
कोरोनाकाल में छंटनी या सैलरी कट झेल रहे कर्मचारी पीएफ का पूरा पैसा निकालने पर भी विचार कर रहे हैं। कई बार निजी क्षेत्र के कर्मचारी नौकरी बदलने पर भी तेजी से पीएफ का पूरा पैसा निकाल लेते हैं लेकिन नौकरी बदलने के साथ पूर्व कंपनी के पीएफ का पूरा पैसा निकाल लेना घाटे का सौदा है। इससे अच्छे भविष्य के लिए की जा रही बचत को तो खत्म करते ही हैं, साथ ही पेंशन योजना की निरंतरता भी खत्म हो जाती है। दरअसल, नौकरी छोड़ने के बाद भी पीएफ पर ब्याज मिलता रहता है। अगर आपको पैसे की जरूरत नहीं है तो कुछ सालों के लिए पीएफ खाते को छोड़ सकते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि कर्मचारी नौकरी छोड़ते हैं या अगर उन्हें किसी वजह से नौकरी से निकाला भी जाता है तो भी पीएफ को तुरंत निकालना समझदारी नहीं है, जब तक कि आपको इसकी सख्त जरूरत न हो। दरअसल, नौकरी छोड़ने के बाद भी पीएफ पर ब्याज मिलता रहता है और नया रोजगार मिलने के साथ ही उसे नई कंपनी में स्थानांतरित कराया जा सकता है। अगर एक नौकरी छोड़ने के कुछ महीनों बाद दूसरी नौकरी करने लगते हैं और पुरानी कंपनी की पूरी पीएफ राशि को नई में स्थानांतरित करा लेते हैं तो इसे सेवा की निरंतरता माना जाएगा। ऐसे में पेंशन योजना में रुकावट नहीं आएगी। सेवा में निरंतरता के प्रावधान के तहत सुविधाओं का लाभ लेने के लिए अंशदान बराबर देना जरूरी है। 

Labels:

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget