बिहार में चुनावी रैलियों की अनुमति तो एमपी में क्यों नहीं?

shivraj singh chauhan

नई दिल्ली

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच की रैलियों के संबंध में दिए गए आदेश के खिलाफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे। शिवराज ने गुरुवार को कहा कि बिहार में रोजाना रैलियां हो रही हैं। एक देश में इस तरह के विरोधाभासी कानून नहीं हो सकते हैं।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में चुनावी रैलियों पर रोक लगाने वाले हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएंगे। बिहार में रोजाना चुनावी रैलियां आयोजित की जा रही हैं'। उन्होंने कहा, 'मैं इस फैसले का सम्मान करता हूं, लेकिन इस फैसले के संबंध में हम माननीय सर्वोच्च न्यायालय जा रहे हैं। एक असमंजस की स्थिति बन गई है, मध्य प्रदेश के एक हिस्से में सभाएं हो सकती हैं और दूसरे हिस्से में नहीं हो सकती। मुझे पूरा विश्वास है कि सर्वोच्च न्यायालय में हमें न्याय मिलेगा'। मध्य प्रदेश में अगले महीने होने वाले विधानसभा उपचुनाव के लिए शिवराज सिंह चौहान की शाडोरा और बराच में जनसभाएं थीं, जोकि हाईकोर्ट के आदेश के बाद निरस्त कर दी गईं। उन्होंने कहा, 'आज शाडोरा और बराच में मेरी सभाएं थीं, मैं वहां के नागरिकों से क्षमा मांगता हूं, हमने आज वो सभाएं निरस्त की हैं। माननीय उच्च न्यायालय की ग्वालियर बेंच ने एक फैसला दिया है जिसके तहत चुनावी रैली या सभाएं आयोजित नहीं की जा सकती हैं।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget