भारतीय एयरलाइनों की कीमत पर विदेशी एयरलाइन को अनुमति नही


नई दिल्ली

नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरुवार को कहा कि यह जोरदार और स्पष्ट संदेश देने का वक्त आ गया है कि विदेशी एयरलाइनों की उड़ानों को भारतीय एयरलाइनों की कीमत पर अनुमति नहीं दी जाएगी। लुफ्थांसा (एयरलाइन) को 30 सितंबर से 20 अक्टूबर तक की भारत और जर्मनी के बीच अपनी उड़ानें 28 सितंबर को रद्द करनी पड़ी थी। दरअसल, नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने उनसे अनुमति वापस लेते हुए कहा था कि जर्मनी की यात्रा करना चाह रहे भारतीयों पर पाबंदियां हैं और इसका भारतीय एयरलाइनों पर काफी दुष्प्रभाव पड़ रहा है, इसके परिणामस्वरूप लुफ्थांसा के पक्ष में यातायात का असमान वितरण हो रहा है।
पुरी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह मुद्दा विदेशी एयरलाइनों को अनुमति देने या नहीं देने के बारे में, नहीं है। हम चाहते हैं कि यहां विदेशी एयरलाइनें संचालित हों... लेकिन मुझे लगता है कि यह जोरदार और स्पष्ट संदेश देने का वक्त आ गया है कि यह भारतीय एयरलाइनों की कीमत पर नहीं किया जाएगा।
हालांकि, भारत द्वारा जर्मनी सहित करीब 16 देशों के साथ किये गये उड़ान समझौतों के तहत विशेष अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को जुलाई से अनुमति दी गई। पुरी ने कहा, 'भारत में सभी विदेशी आर्थिक संस्थाओं के लिये अवसर है। लेकिन समान रूप से जहां वाणिज्यिक लाभ की बात है, हम अपनी एयरलाइनों के भी उन देशों में जाने पर-वे सुविधाएं हासिल करने की आशा करते हैं'। सितंबर में लुफ्थांसा हर हफ्ते भारत के लिये करीब 20 उड़ानें संचालित कर रहा था जबकि एअर इंडिया हर हफ्ते जर्मनी के लिये करीब तीन उड़ानें ही संचालित कर रही थी। विमानन सचिव प्रदीप सिंह खरोला ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भारत और जर्मनी, दोनों देशों के बीच उड़ानों के लिये एयर बबल व्यवस्था को पुन:स्थापित करने के तरीके पर बातचीत कर रहे हैं।

Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget