चीन के 'दुश्मन' को दोस्त बनाएगा भारत!

नई दिल्ली

सीमा विवाद के बाद बढ़े तनाव के बीच भारत चीन को पटखनी देने का कोई मौका नहीं छोड़ रहा है। इसी कड़ी में अब भारत चीन के दुश्मन देशों के साथ बातचीत शुरू करने जा रहा है। दरअसल, चीन की हरकतों से भारत और ताइवान दोनों परेशान हैं। इससे दोनों लोकतांत्रिक देशों में करीबी बढ़ रही है और वे ट्रेड डील पर औपचारिक बातचीत शुरू करने वाले हैं। ताइवान कई साल से ट्रेड डील पर बातचीत करना चाहता है, लेकिन भारत इससे कतराता रहा है। दरअसल, भारत लद्दाख सीमा विवाद से पहले तक चीन की नाराजगी मोल नहीं लेना चाहता था। अब कुछ महीनों से सरकार में ताइवान के साथ ट्रेड डील के पक्ष वाला धड़ा हावी हो रहा है।

एक अधिकारी ने बताया कि ताइवान के साथ ट्रेड डील से भारत को टेक्नोलॉजी और इलेक्ट्रॉनिक्स में अधिक निवेश आकर्षित करने में मदद मिलेगी। अधिकारी ने कहा, 'अभी यह साफ नहीं है कि बातचीत शुरू करने के लिए कब अंतिम फैसला लिया जाएगा।'

इसी महीने भारत सरकार ने स्मार्टफोन बनाने के लिए कई कंपनियों के प्रस्तावों को मंजूरी दी थी। इनमें ताइवान का फॉक्सकॉन टेक्नोलॉजी ग्रुप, विस्ट्रॉन ग्रुप और पेगाट्रॉन कॉर्प शामिल है। इस बारे में वाणिज्य मंत्रालय के प्रवक्ता ने तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की। ताइवान के टॉप ट्रेड वार्ताकार जॉन देंग ने भी ईमेल का जवाब नहीं दिया।

अगर भारत के साथ सीधी ट्रेड वार्ता शुरू होती है तो यह ताइवान के लिए बड़ी जीत होगी। चीन से दबाव के कारण उसे किसी भी बड़े देश के साथ ट्रेड डील शुरू करने में संघर्ष करना पड़ा है। अधिकांश देशों की तरह भारत ने भी ताइवान को औपचारिक मान्यता नहीं दी है। दोनों देशों के बीच रिप्रजेंटेटिव ऑफिसेज के तौर पर अन-ऑफिशियल डिप्लोमैटिक मिशन हैं। दोनों देशों ने अपने आर्थिक रिश्तों को मजबूत करने के लिए 2018 में एक अपडेटेड द्विपक्षीय निवेश करार पर हस्ताक्षर किए थे।


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget