'नौ घंटे पूछताछ के दौरान मोदी ने नहीं ली थी एक कप भी चाय'

 

R K Raghavan

नई दिल्ली 

गुजरात दंगों की जांच को बनी एसआईटी ने सूबे के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी से 9 घंटे लंबी मैराथन पूछताछ की थी। उस दौरान उनसे करीब 100 सवाल पूछे गए और उन्होंने किसी भी सवाल पर टालमटोल नहीं की। इतना ही नहीं, मैराथन पूछताछ के दौरान मोदी ने पूछताछकर्ताओं की तरफ से एक कप भी चाय स्वीकार नहीं किया। यह दावा उस समय जांचकर्ताओं की टीम का नेतृत्व करने वाले आर. के. राघवन ने अपनी नई किताब में किया है। 

सीबीआई के पूर्व डायरेक्टर राघवन ने अपनी आत्मकथा 'अ रोड वेल ट्रैवेल्ड' में लिखा है कि मोदी पूछताछ के लिए गांधीनगर स्थित एसआईटी ऑफिस आने के लिए भी तुरंत तैयार हो गए थे। वह अपने साथ पानी की बोतल लेकर आए थे। 

2002 के गुजरात दंगों की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी का गठन किया था जिसका प्रमुख राघवन को बनाया गया। उससे पहले वह सीबीआई के डायरेक्टर के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके थे। गुजरात दंगों के अलावा वह कई हाई-प्रोफाइल मामलो की जांच में जुड़े रहे जिनमें बोफोर्स घोटाला, 2000 का साउथ अफ्रीका क्रिकेट मैच-फिङ्क्षक्सग केस और चारा घोटाले जैसे मामले शामिल हैं। गुजरात के तत्कालीन सीएम को जब एसआईटी ने पूछताछ के लिए बुलाया गया था, उसे याद करते हुए राघवन ने अपनी किताब में लिखा है, 'हमने उनके स्टाफ को संदेश भेजा कि उन्हें इसके लिए व्यक्तिगत तौर पर एसआईटी दफ्तर आना होगा और अगर यह मीटिंग किसी अन्य जगह हुई तो इसे गलत समझा जा सकता है कि पक्ष लिया जा रहा है'। राघवन ने आगे लिखा, 'वह (मोदी) हमारे इस रुख की भावना को समझ गए और गांधीनगर में गवर्नमेंट कॉम्पलेक्स में ही स्थित एसआईटी दफ्तर आने के लिए तुरंत तैयार हो गए'। पूर्व पुलिस अधिकारी ने कहा कि उन्होंने एक 'असामान्य कदम' उठाते हुए एसआईटी सदस्य अशोक मल्होत्रा को पूछताछ करने के लिए कहा ताकि बाद में उनके और मोदी के बीच कोई डील होने का 'शरारतपूर्ण आरोप' नहीं लग सके। राघवन ने कहा, 'इस कदम का महीनों बाद और किसी ने नहीं बल्कि न्याय मित्र हरीश साल्वे ने समर्थन किया। उन्होंने मुझसे कहा था कि मेरी उपस्थिति से विश्वसनीयता प्रभावित होती'। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget