सीमा पर भारत-चीन में टेंशन हाई

चीन के ६०,००० सैनिक तैनात! भारतीय वायुसेना अलर्ट

Indian Army

नई दिल्ली 

भारत और चीन के बीच तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। मई के बाद से ही दोनों देशों के संबंध कड़वाहट भरे हो चुके हैं। चीन चाहता है कि वो अपने सैन्य पराक्रम को दिखाकर भारतीय इलाके में कब्जा कर सके, लेकिन हर बार उनको मायूसी हाथ रही है। चीन की बौखलाहट का अंदाजा इसी ले लगाया जा सकता है कि कभी वो गाना बजाना करने लगता है तो कभी दोस्ती की बात करने लगता है ,लेकिन भारत हर मोर्चे पर अपनी तैयारी पुख्ता रख रहा है। भारत 1962 में धोखा देने वाले इस चीन की नस-नस से वाकिफ है। इसीलिए इसकी बातों पर कोई नहीं आ रहा है। 

पूरी तरह से तैयारी में जुटी वायुसेना 

एलएसी में भारतीय सेना पूरी तरह से तैयारी में जुटी हुई है। भारतीय वायुसेना का बोइंग सी-17 ग्लोबमास्टर भी लद्दाख में तैनात है। यहां पर इस विमान से रसद खाद्य सामग्री की आपूर्ति की जाएगी। आज ग्लोबमास्टर को लेह एयरबेस में लैंड कराया गया। 81वीं स्क्वार्डन के ग्रुप कैप्टन को गोल्डन की देकर विमान को भारतीय वायुसेना में शामिल किया। इस स्क्वार्डन को स्काईलॉर्ड्स नाम दिया गया है। 

चिनूक हेलीकॉप्टर की ताकत 

इसके बाद वायुसेना ने चिनूक हेलीकॉप्टर को भी तैयार कर रखा है। आज लद्दाख इलाके में चिनूक भी अपने काम में जुटा रहा। इन दोनों विमानों को खास तौर पर आपूर्ति के लिए तैयार किया जा रहा है। अगर चीन से किसी भी वक्त युद्ध जैसी स्थिति बनती है तो जरुरी सामानों की आपूर्ति के लिए ये हमेशा तैनात रहेंगे। चिनूक हेलीकॉप्टर की ताकत इतनी है कि इस हेलिकॉप्टर में एक बार में गोला बारूद, हथियार के अलावा सैनिक भी जा सकते हैं। चिनूक हेलीकॉप्टर को रडार से पकड़ पाना भी मुश्किल है। चिनूक हेलीकॉप्टर भारी मशीनों और तोपों को भी उठाकर ले जा सकता है। 

माइक पॉम्पियो का बयान 

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने भारत को एक बड़े खतरे से आगाह किया है। उन्होंने चीन को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि उसने भारत की उत्तरी सीमा पर 60,000 सैनिक तैनात किए हैं। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget