हेमकुंड साहिब के कपाट शीतकाल के लिए बंद

hemkund sahib

जोशीमठ

प्रसिद्ध हेमकुंड साहिब के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं। कपाट बंद होने के दौरान करीब 1350 सिख श्रद्धालु अंतिम अरदास के साक्षी रहे। इसके साथ ही पवित्र तीर्थ लक्षण मंदिर-लोकपाल के कपाट भी बंद हुए हैं। आपको बता दें, हेमकुंड साहिब के कपाट हर साल मई महीने में खुलते थे, लेकिन इस बार कोरोना महामारी के चलते एहतियातन चार सितंबर को खोले गए। 

गौरतलब है कि चमोली जिले में स्थित हेमकुंड साहिब सिखों का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। जो समुद्रतल से 15225 फीट की ऊंचाई पर चमोली जिले में स्थित है। शनिवार दोपहर डेढ़ बजे धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। हेमकुंड साहिब के कपाट बंद होने की प्रक्रिया शनिवार सुबह से शुरू हो गई थी। सुबह साढ़े नौ बजे पहली अरदास हुई। इसके बाद 10 बजे सुखमणी का पाठ और 11 बजे शबद कीर्तन हुआ। दोपहर साढ़े 12 बजे इस साल की अंतिम अरदास पढ़ने के बाद गुरू ग्रंथ साहिब को पंच प्यारों की अगुवाई में सचखंड में विराजमान किया गया और फिर कपाट पूरे विधि विधान के साथ शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते हेमकुंड साहिब के कपाट देर से चार सितंबर को श्रद्धालुओं के लिए खोले गए थे। 


Post a comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget